हिन्दी उपन्यासों की शिल्प-विधि का विकास : उषा सक्सेना द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Hindi Upanyason Ki Shilp – Vidhi Ka Vikas : by Usha Saxena Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

Book Nameहिन्दी उपन्यासों की शिल्प-विधि का विकास / Hindi Upanyason Ki Shilp – Vidhi Ka Vikas
Author
Category, ,
Language
Pages 387
Quality Good
Size 270 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : मानवीय राग, मनोभाव, विचार, अनुभूति, स्वप्न एवं कल्पना की कलात्मक अभिव्यक्ति ही साहित्य है। साहित्य की विविध विधाएँ काव्य, उपन्यास, कहानी, नाटक, एकांकी आदि सभी अपने-अपने ढंग से जीवन की व्याख्या करते हैं। किन्तु महाकाव्य, नाटक तथा कहानी द्वारा प्रस्तुत जीवन-व्याख्या में यथार्थता की वह प्रतीति नहीं होती……..

Pustak Ka Vivaran : Manaviy Rag, Manobhav, vichar, Anubhuti, svapn evan kalpana ki kalatmak Abhivyakti hi sahity hai. Sahity ki vividh vidhayen kavy, upanyas, kahani, Natak, ekanki Aadi sabhi apane-apane dhang se jeevan ki vyakhya karate hain. Kintu Mahakavy, Natak tatha kahani dvara prastut jeevan-vyakhya mein yatharthata ki vah prateeti nahin hoti…….

Description about eBook : Literature is the artistic expression of human melody, emotion, thought, feeling, dream and imagination. Various genres of literature like poetry, novels, story, drama, drama etc. all explain life in their own way. But the life-interpretation presented by the epic, drama and story does not have that realization of reality ……

“जीवन में सफलता इतना अधिक प्रतिभा अथवा अवसर का विषय नहीं है जितना वह लक्ष्य के प्रति प्रतिबद्धता और डटे रहने का है।” ‐ सी. डब्ल्यू. वेन्डेट
“Success in life is a matter not so much of talent or opportunity as of concentration and perseverance.” ‐ C.W. Wendte

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment