बुद्धि के ठेकेदार : वासुदेव गोस्वामी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Buddhi Ke Thekedar : by Vasudev Goswami Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

Book Nameबुद्धि के ठेकेदार / Buddhi Ke Thekedar
Author
Category, , , ,
Language
Pages 85
Quality Good
Size 3 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : पदमाकर के इन दो हो सवैया को सुनकर कितने ही देवताओं का जी भूलोक पर जाने के लिए ललक उठा। इसी समय वीणा की झंकार के साथ नारद जी ने प्रवेश किया। समस्त कवि-समाज को उपस्थित देख अष्टछाप के कवियों में से जब उन्होंने परमानन्ददास जी को वहां न पाया, तब वे इस अभाव का कारण पूछने लगे। धर्मराज ने…….

Pustak Ka Vivaran : Padamakar ke in do ho savaiya ko sunkar kitane hi devataon ka ji bhoolok par jane ke liye lalak utha. Isi samay veena ki jhankar ke sath narad jee ne pravesh kiya. Samast kavi-samaj ko upasthit dekh ashtachhap ke kaviyon mein se jab unhonne paramanandadas ji ko vahan na paya, tab ve is abhav ka karan puchhane lage. Dharmaraj ne………

Description about eBook : Hearing Padmakar’s two ho Savaiya, how many gods were urged to go to the land. At the same time Narada ji entered with Veena’s chimes. Seeing the entire poet-society present, when he did not find Parmanand Das ji from the poets of Ashtachhapa, he started asking the reason for this lack. Dharmaraj ………

“जब आप अपने मित्रों का चयन करते हैं तो चरित्र के स्थान पर व्यक्तित्व को न चुनें।” डब्ल्यू सोमरसेट मोघम
“When you choose your friends, don’t be short-changed by choosing personality over character.” W. Somerset Maugham

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment