चलो, चलें मंगरौठ : श्रीकृष्णदत्त भट्ट द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Chalo, Chalen Mangrauth : by Shri Krishna Dutt Bhatt Hindi PDF Book – Social (Samajik)

चलो, चलें मंगरौठ : श्रीकृष्णदत्त भट्ट द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Chalo, Chalen Mangrauth : by Shri Krishna Dutt Bhatt Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name चलो, चलें मंगरौठ / Chalo Chalen Mangrauth
Category, ,
Language
Pages 148
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : उनमें भी हमारी-आपकी तरह कमियां है, कमजोरियाँ है। फिर भी उनमें कुछ है, जिसने उन्हें सबसे पहले इस बात के लिए प्रेरित किया कि वे भूदान-आंदोलन को एक नया मोड़ दें। भारत में यही वह पहला गाँव है, उत्तर प्रदेश यही वह पहला गाँव है, जिसने सबसे पहले विनोबा के इस वाक्य को चरितार्थ करके दिखा दिया कि……

Pustak Ka Vivaran : Unamen bhee hamari-Aapaki tarah kamiyan hai, kamajoriyan hai. Phir bhee unamen kuchh hai, jisane unhen sabase pahale is bat ke lie prerit kiya ki ve bhoodaan-Aandolan ko ek naya mod den. Bharat mein yahi vah pahala Ganv hai, uttar pradesh yahi vah pahala Ganv hai, jisane sabase pahale vinoba ke is vaky ko charitarth karake dikha diya ki………..

Description about eBook : They too have drawbacks and weaknesses like ours. Still there is something in them, which first inspired them to give a new twist to the Bhoodan movement. This is the first village in India, Uttar Pradesh is the first village, which first showed this sentence of Vinoba by showing that ………

“सुखी विवाह का रहस्य एक रहस्य ही है।” ‐ हैनी यंगमैन
“The secret of happy marriage remains a secret.” ‐ Henny Youngman

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment