चन्दरदास की सूक्तियाँ : चन्दर दास द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – काव्य | Chandar Das Ki Suktiyan : by Chandar Das Hindi PDF Book – Poetry (Kavya)

चन्दरदास की सूक्तियाँ : चन्दर दास द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - काव्य | Chandar Das Ki Suktiyan : by Chandar Das Hindi PDF Book - Poetry (Kavya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name चन्दरदास की सूक्तियाँ / Chandar Das Ki Suktiyan
Author
Category,
Language
Pages 140
Quality Good
Size 37 MB
Download Status Available

चन्दरदास की सूक्तियाँ पुस्तक का कुछ अंशऔर जागो जैसे गम्भीर तथा मार्मिक विषयों को बड़े ही सरल, सहज और हृदयस्पर्शी ढंग से प्रस्तुत किया गया है। यह पुस्तक निश्चय ही पाठकों के हृदय को प्रभावित करने वाली और आध्यात्म के पथ पर ले जाने वाली सिद्ध होगी। मैं इस उदात्त प्रयत्न के लिए कवि चन्दरदास को हृदय से आशीर्वाद देता हूँ और भगवान भोलेनाथ से प्रार्थना करता हूँ कि वे इसी प्रकार कवि के ऊपर अपनी कृपा दृष्टि बनाये रखें, ताकि कवि चन्दरदास जी मानव समाज के उज्ज्वल भविष्य के लिए आगे भी इसी प्रकार रचना………..

Chandar Das Ki Suktiyan PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Aur Jago Jaise Gambheer tatha marmik vishayon ko bade hi saral, sahaj aur hrdayasparshee dhang se prastut kiya gaya hai. Yah pustak nishchay hi pathakon ke hrday ko prabhavit karne vali aur aadhyatm ke path par le jane vali siddh hogi. Main is udatt prayatn ke liye kavi chandar das ko hrday se aashirvad deta hoon aur bhagvan bholenath se prarthana karta hoon ki ve isi prakar kavi ke oopar apni krpa drshti banaye rakhen, taki kavi chandaradas jee manav samaj ke ujjval bhavishy ke liye aage bhi isi prakar rachana………..
Short Passage of Chandar Das Ki Suktiyan Hindi PDF Book : And serious and poignant subjects like Jago have been presented in a very simple, easy and heart-touching manner. This book will surely prove to impress the hearts of the readers and take them on the path of spirituality. I heartily bless Kavi Chandardas for this lofty effort and pray to Lord Bholenath to keep his blessings on the poet in the same way, so that Kavi Chandardas ji can continue to write like this for the bright future of human society…………
“श्रेष्ठ व्यक्ति बोलने में संयमी होता है लेकिन अपने कार्यों में अग्रणी होता है।” कंफ्यूशियस
“The superior man is modest in his speech, but exceeds in his actions.” Confucius

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment