चार्वाक दर्शन : आचार्य आनन्द झा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Charvak Darshan : by Acharya Aanand Jha Hindi PDF Book Social (Samajik)

चार्वाक दर्शन : आचार्य आनन्द झा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Charvak Darshan : by Acharya Aanand Jha Hindi PDF Book Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name चार्वाक दर्शन / Charvak Darshan
Author
Category,
Language
Pages 445
Quality Good
Size 97 MB
Download Status Available

चार्वाक दर्शन पुस्तक का कुछ अंश : प्रत्यक्ष ज्ञान के उदय के सम्बंध में विभिन्‍न दार्शनिकों की प्रक्रियाएं विभिन्‍न पायी जाती हैं । न्याय वैशेषिक और मीमाँसकों की प्रक्रिया प्रत्यक्ष के सम्बंध में एक जैसी पायी जाती है। इन तीनों मतों में ज्ञान का आश्रय शरीर और इन्द्रियों से अतिरिक्त व्यापक आत्मा है और मन अतिरिक्त अव्यापक है। इन दोनों के आगन्तुक संयोग से आत्मा में ज्ञान उत्पन्न होता है। चाहे वह कोई और किसी प्रकार का ज्ञान क्यों न हो। अत: प्रत्यक्ष-ज्ञान-स्थल में आत्मा का प्रथमत: मन से संयोग होता है और मन जाकर इन्द्रिय से जुटता है और इन्द्रिय जाकर उस विषय से जा जुटती है, जिस विषय के सम्बंध में प्रत्यक्षात्मक ज्ञान………

Charvak Darshan PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Pratyaksh gyan ke uday ke sambandh mein vibhin‍na Darshanikon kee prakriyayen vibhin‍na payi jati hain. Nyay vaisheshik aur meemansakon ki prakriya pratyaksh ke sambandh mein ek jaisi payi jati hai. In teenon maton mein gyan ka aashray shareer aur indriyon se atirikt vyapak aatma hai aur man atirikt avyapak hai. In Donon ke aagantuk sanyog se aatma mein gyan utpann hota hai. Chahe vah koi aur kisi prakar ka gyan kyon na ho. at: pratyaksh-gyan-sthal mein aatma ka prathamat: man se sanyog hota hai aur man jakar indriy se jutata hai aur indriy jakar us vishay se ja jutati hai, jis vishay ke sambandh mein pratyakshatmak gyan………
Short Passage of Charvak Darshan Hindi PDF Book : In relation to the rise of direct knowledge, the processes of different philosophers are found to be different. The process of Nyaya Vaiseshik and Mimamsakas is found to be similar in relation to direct. In all these three schools, the support of knowledge is the soul which is more comprehensive than the body and the senses and the mind is more comprehensive. Knowledge is generated in the soul by the coming combination of these two. Even if it is any other kind of knowledge. Therefore, in the place of direct knowledge, the soul first of all unites with the mind, and the mind then unites with the sense organs, and the sense organs unite with the object in relation to which the perception is known.
“प्रत्येक शिशु एक संदेश लेकर आता है कि भगवान मनुष्य को लेकर हतोत्साहित नहीं है।” – रविन्द्रनाथ टैगोर
“Every child comes with the message that God is not yet discouraged of man.” – Rabindranath Tagore

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment