छितवन की छाँह : विद्यानिवास मिश्र द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Chhitwan Ki Chhanh : by Vidhya Niwas Mishra Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

Book Nameछितवन की छाँह / Chhitwan Ki Chhanh
Author
Category, , ,
Language
Pages 141
Quality Good
Size 16 MB
Download Status Available

छितवन की छाँह पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण : माधव, बाणभट्ट के चन्द्रापीड और ब्रज साहित्य के कन्हैया। यौवन का उन्माद क्षय विनाश
केबीज कही बोता होगा, नहीं जानता, पर भारती के मंदिर में तो इसी, भारवि, माघ, बाण,अमरुक और

पंडितराज जगन्नाथ की सृष्टि की है, इसी का शामोज्जवल रंग ब्रजभाषा के कवियों पर चढ़ा रहा है और इसी का
मकरंद तुलसी में सत्व के रूप में बसा.

Chhitwan Ki Chhanh PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Madhav, Banbhatt ke Chandrapeed aur braj sahity ke kanhaiya. Yauvan ka unmad kshay vinash kebeej kahi bota hoga, nahin janata, par bharati ke Mandir mein to isee, bharavi, magh, ban, Amaruk aur panditaraj jagannath kee srshti kee hai, Isi ka shamojjaval rang brajabhasha ke kaviyon par chadha raha hai aur isi ka makarand tulasi mein satv ke roop mein basa……..

Short Description of Chhitwan Ki Chhanh Hindi PDF Book  : Madhava, Chandrapid of Banabhatta and Kanhaiya of Braj literature. The frenzied decay of youth may have been sown by the Kbijs, I do not know, but in the temple of Bharati, this is what Bharvi, Magha, Baan, Amaruk and Panditraj Jagannath have created, the shamojjwal color of which is going on the poets of Brajbhasha and its Makrand settled in Tulsi as Sattva ……..

 

“ऐसा नहीं है कि कार्य कठिन हैं इसलिए हमें हिम्मत नहीं करनी चाहिए, ऐसा इसलिए होता है क्योंकि हम हिम्मत नहीं करते हैं इसलिए कार्य कठिन हो जाते हैं।” ‐ सेनेका
“It is not because things are difficult that we do not dare; it is because we do not dare that things are difficult.” ‐ Seneca

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment