दीप – निर्वाण : श्री प्रफुल्लचन्द्र ओझा ‘मुक्त’ द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Deep – Nirvan : by Shri Praphullachandra Ojha ‘Mukt’ Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Nameदीप - निर्वाण / Deep - Nirvan
Author
Category, , , , , , ,
Language
Pages 196
Quality Good
Size 7 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : सन्तान के जन्म धारण करने के क्षणभर पहले से महाराज समरसिंह आज चिन्ता में मग्न हैं। उनका चौड़ा और महान मस्तक चिन्ता से सिक्कुड़ गया है। उनकी सुदीर्घ, स्थिर और उज्चल आँखों की गम्भीर और मधुर दृष्टि आज शून्य की ओर लगी हुई है। उस मूर्ति को देखते ही हृदय में तरह-तरह के भावों का उदय होता है। जिस प्रकार………..

Pustak Ka Vivaran : Santan ke janm dharan karane ke kshanabhar pahale se maharaj samarasinh aaj chinta mein magn hain. Unka chauda aur mahan mastak chinta se sikkud gaya hai. Unki sudeergh, sthir aur ujchal Aankhon ki gambhir aur madhur drshti aaj shoony ki or lagi huyi hai. Us murti ko dekhate hi hrday mein tarah-tarah ke bhavon ka uday hota hai. Jis prakar………

Description about eBook : From a moment before the birth of a child, Maharaj Samar Singh is engrossed in worry. His broad and great head is shrunken with worry. The serious and sweet look of his long, steady and bright eyes is today set towards nothingness. On seeing that idol, different emotions arise in the heart. Just as………

“हमें जो मिलता है, उससे हम जीविका बना सकते हैं; लेकिन हम जो देते हैं, वह जीवन बनाता है।” ‐ आर्थर एशे
“From what we get, we can make a living; what we give, however, makes a life.” ‐ Arthur Ashe

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment