दो आंखें : ताराशंकर वन्द्योपाध्याय द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Do Ankhen : by Tarashankar Bandhyopadhyay Hindi PDF Book – Story (Kahani)

दो आंखें : ताराशंकर वन्द्योपाध्याय द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Do Ankhen : by Tarashankar Bandhyopadhyay Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name दो आंखें / Do Ankhen
Author
Category, , , ,
Language
Pages 178
Quality Good
Size 6 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : गांव का मेरा घर कच्चा है। माटी की दीवार, फूस की छौनी | लेकिन देखने में खूबसूरत. है, किसी भी सुरुचिसम्पन्त बंगले जैसा | सामने वगीचा । बगीचा भी सुन्दर हो उठा है। लोग ठिठक पड़ते हैं, देख जाते हैं। नीम के नीचे एक चौंतरा वंधा है, उसके चारों कोने के खूंटों पर पूड़ी फूंस की छपरी देखने से किसी तपोवन या आश्रम-सा ‘लगता है। मैं उसी नीम के पेड़ तले………

Pustak Ka Vivaran : Ganv ka Mera Ghar Kachcha hai. Mati ki Deevar, Phoos ki chhauni | Lekin Dekhane mein Khoobasoorat. hai, kisi bhi Suruchisampant bangale jaisa . Samane Bagicha . Bagicha bhee Sundar ho utha hai. Log Thithak padate hain, dekh jate hain. Neem ke Neeche ek chauntara vandha hai, usake charon kone ke khoonton par poodi Phoons kee chhapari dekhane se kisi Tapovan ya Aashram-sa lagata hai. Main usee neem ke ped tale………..

Description about eBook : My village house is raw. Mati Wall, Pallet Chouney | But beautiful to see. Is, like any bourgeois bungalow. The square in front. The garden has also become beautiful. People get stunned, see. Beneath the neem is a round neck, a tapovan or ashram-like feeling is seen on the peels of the four corners of it. Under the same neem tree………..

“कड़ी मेहनत के बिना तो केवल खर पतवार की ही उपज पैदा होती है।” ‐ गोर्डन हिन्क्ले
“Without hard work, nothing grows but weeds.” ‐ Gordon Hinckley

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment