संदीपन पाठशाला : ताराशंकर बन्द्योपाध्याय द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Sandipan Pathshala : by Tarashankar Bandhyopadhyay Hindi PDF Book – Social (Samajik)

संदीपन पाठशाला : ताराशंकर बन्द्योपाध्याय द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Sandipan Pathshala : by Tarashankar Bandhyopadhyay Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name संदीपन पाठशाला / Sandipan Pathshala
Author
Category, , , ,
Language
Pages 196
Quality Good
Size 6 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : प्रतिष्ठा की कामना जब मनुष्य की रोटी-कपडे की चिंता को भुला तब उनका राह चलना आसमान की ओर मुंह किये चलने के समान हो जाता है। अति-यथार्थ मिट॒टी की धरती के बाधा-विश्नों की वह उस 2 भूल जाता है। एक कहानी है। एक ज्योतिर्विद अँधेरी रात में आकाश के तारों को और देखते हुए राह चलते हुए……….

Pustak Ka Vivaran : Pratishtha kee Kamana jab Manushy kee Roti-Kapade kee chinta ko bhula tab unaka raah chalana Aasaman kee or munh kiye chalane ke saman ho jata hai. ati-yatharth mitati kee dharatee ke Badha-vidhnon kee vah us samay bhool jata hai. Ek kahani hai. Ek Jyotirvid andheree Rat mein Aakash ke Taron ko aur dekhate huye Rah chalate huye………..

Description about eBook : Wish for prestige When the worry of man’s bread and clothes is forgotten, then his path becomes like walking towards the sky. At that time, he forgets the obstacles of the earth of the very real soil. Is a story. An astrologer walking in the dark night looking at the stars of the sky and ………..

“जीवन ताश के खेल के समान है। आपको जो पत्ते मिलते हैं वह नियति है; आप कैसे खेलते हैं वह आपकी स्वेच्छा है।” ‐ जवाहरलाल नेहरु
“Life is like a game of cards. The hand you are dealt is determinism; the way you play it is free will.” ‐ Jawaharlal Nehru

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment