दो बहनों की कहानी : सपना सिंह द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Do Bahno Ki Kahani : by Sapna Singh Hindi PDF Book – Story ( Kahani )

दो बहनों की कहानी : सपना सिंह द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Do Bahno Ki Kahani : by Sapna Singh Hindi PDF Book - Story ( Kahani )
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name दो बहनों की कहानी / Do Bahno Ki Kahani
Author
Category, ,
Language
Pages 8
Quality Good
Size 950 KB
Download Status Available

दो बहनों की कहानी पुस्तक का कुछ अंश : …कुछ पुराना सा शीर्षक है न। दो बैलों की कथा सा ध्वनित होता है। पर कया करें एक के साथ दूसरे की बात आप से आप आ जाती है। एक की बात करो दूसरे की बात चलना लाजिमी हो जाता है। विवाह के बाद जहां मैं गई थी वह छोटा सा कस्बा नुमा शहर था और नया नया जिला बना था। वहां के सांसद पुराने धाकड़ नेता थे और उन्होंने विकास के नाम पर उस छोटे से कस्बे में कई फ्लाई ओवर बना दिये थे। मेरे ननद-ननदोई भी वहीं थे। प्रशासनिक हलकों की खबरें अक्सर सुनी सुनाई जाती थी क्योंकि मेरे ससुर जी भी पशुपालन विभाग के उपनिदेशक के पद पर पोस्टेड थे……..

Do Bahno Ki Kahani PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : ….Kuch purana sa shirshak hai na. Do bailon ki katha sa dhvanit hota hai. Par kya karen ek ke sath dusare ki baat aap se aap aa jati hai. Ek ki baat karo dusre ki baat chalna lajimi ho jata hai. Vivah ke baad jahan main gai thi vah chota sa kasba numa shahar tha aur naya naya jila bana tha. Vahan ke sansad purane dhakad neta the aur unhonne vikas ke naam par us chote se kasbe mein kai phlai ovar bana diye the. Mere nanad-nanadoi bhi vahin the. Prashasanik halakon ki khabaren aksar suni sunai jati thi kyonki mere sasur ji bhi pashupalan vibhag ke upanideshak ke pad par posted the………….
Short Passage of Do Bahno Ki Kahani Hindi PDF Book : …. some old title is not The story of two bulls is sound. But what to do with the other one comes to you from the other. Talk about one thing goes abusive. After the marriage, where I went, the small town was Numa town and a new district was made. The MPs were old Dhark leaders and they made many flyoffs in that small town in the name of development. My nand-nandoi was also there. The news of administrative circles was often heard because my father-in-law was also posted in the post of Deputy Director of Animal Husbandry Department……………
“प्रत्येक शिशु एक संदेश लेकर आता है कि भगवान मनुष्य को लेकर हतोत्साहित नहीं है।” – रविन्द्रनाथ टैगोर
“Every child comes with the message that God is not yet discouraged of man.” – Rabindranath Tagore

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment