एकसौ आठ बोल का थोकड़ा : श्री राजेन्द्र सुरि द्वारा हिंदी – ग्रन्थ | Eksau Aath Bol Ka Thokada : by Shri Rajendra Suri Hindi PDF Book – Granth

एकसौ आठ बोल का थोकड़ा : श्री राजेन्द्र सुरि द्वारा हिंदी - ग्रन्थ | Eksau Aath Bol Ka Thokada : by Shri Rajendra Suri Hindi PDF Book - Granth
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name एकसौ आठ बोल का थोकड़ा / Eksau Aath Bol Ka Thokada
Author
Category,
Language
Pages 136
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

एकसौ आठ बोल का थोकड़ा का संछिप्त विवरण : एक सिद्ध की अपेक्षा से काल, सादि-अनन्त है, जिस समय जीव समय जीव मोक्ष गया, वह काल उस जीव के मोक्ष का आदि है। फिर उस जीव का मोक्ष-स्थान से पतन नहीं होता इसलिए अनन्त है। सब सिद्धों की अपेक्षा से विचार जाय तो मोक्षकाल, अनादि अनन्त है। क्योंकि यह नहीं कहा जा सकता कि, अमुक जीव सब से पहले मुक्त हुआ अर्थात उससे…….

Eksau Aath Bol Ka Thokada PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Ek Siddh ki Apeksha se kal, sadi-anant hai, jis samay jeev samay jeev moksh gaya, vah kal us jeev ke moksh ka aadi hai. Phir us jeev ka moksh-sthan se patan nahin hota isaliye anant hai. Sab siddhon kee apeksha se vichar jaay to mokshakal, anadi anant hai. Kyonki yah nahin kaha ja sakata ki, amuk jeev sab se pahale mukt huya arthat usase…………
Short Description of Eksau Aath Bol Ka Thokada PDF Book : Kaal is eternal, everlasting by the expectation of a perfect, the time when the living being has attained salvation, that time is the beginning of that creature’s salvation. Then that organism does not fall from the place of salvation, therefore it is eternal. If you consider it with the expectation of all the Siddhas, then Mokshakal is eternal. Because it cannot be said that such a creature was first liberated, that is, from it………….
“आप आराम की ज़िंदगी चाहते हैं तो आपको कुछ परेशानी तो उठानी ही होगी।” ‐ एबिगैल वैन ब्यूरेन
“If you want a place in the sun, you’ve got to put up with a few blisters.” ‐ Abigail Van Buren

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment