गांधी जी के सम्पर्क में : चन्द्रशंकर शुक्ल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – इतिहास | Gandhi Ji Ke Sampark Mein : by Chandrashankar Shukla Hindi PDF Book – History (Itihas)

Book Nameगांधी जी के सम्पर्क में / Gandhi Ji Ke Sampark Mein
Author
Category, , , ,
Language
Pages 225
Quality Good
Size 92 MB

पुस्तक का विवरण : पुस्तक में संप्रहीत किये गये हैं । इन्हें पढ़ते पर मादूम द्वोता है कि किस तरह उनके सम्पर्क में आनेवाले व्यक्तियों ने उनकी ओर आकर्षित होकर, उनके जीवन में प्रवेश करके उनकी परिवर्तेनमयी अद्भुत शक्ति से अपने जीवन के श्रवाह को ही बदल दिया । इस संस्मरण-संग्रह को प्रसिद्ध करने के अभ-संकल्प के पीछे किये जाने वाले परिश्रम के लिए भाई चन्द्रशंकर धन्यवाद के पात्र हैं……..

Pustak Ka Vivaran : Pustak mein Sampraheet kiye gaye hain . Inhen padhate par madoom dvota hai ki kis tarah unke sampark mein aanevale vyaktiyon ne unki or aakarshit hokar, unake jeevan mein pravesh karke unki parivartenamayee adbhut shakti se apane jeevan ke shravah ko hi badal diya. Is Sansmaran-sangrah ko prasiddh karane ke abh-sankalp ke peechhe kiye jane vale parishram ke lie bhai chandrashankar dhanyavad ke patr hain……..

Description about eBook : Captured in the book. On reading these, Madum tells how the people who came in contact with him got attracted towards him, entered his life and changed the course of his life with his amazing power of transformation. Brother Chandrashankar deserves thanks for the hard work behind the determination to make this collection of memoirs famous……..

“आप किसी व्यक्ति को धोखा देते हैं तो आप अपने आपको भी धोखा देते हैं।” ‐ आइज़ेक बेशेविस सिंगर
“When you betray somebody else, you also betray yourself.” ‐ Isaac Bashevis Singer

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment