गिनी मुर्गी ने कैसे पाई चित्तियाँ : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – बच्चों की पुस्तक | Gini Murgi Ne Kaise Payin Chittiyan : Hindi PDF Book – Children’s Book (Bachchon Ki Pustak)

Book Nameगिनी मुर्गी ने कैसे पाई चित्तियाँ / Gini Murgi Ne Kaise Payin Chittiyan
Author
Category, ,
Language
Pages 28
Quality Good
Size 2.4 MB
Download Status Available

गिनी मुर्गी ने कैसे पाई चित्तियाँ का संछिप्त विवरण : गिनी मुर्गी छोटी सी थी, लेकिन उसकी मित्रता एक बड़े पशु के साथ थी। उसकी मित्र थी एक गाय। दोनों को विशाल हरी पहाड़ियों पर जाना अच्छा लगता था। जहाँ गाय घास खा सकती थी और न्गनगाह बीज चुन सकती थी और टिड्डों को पकड़ कर खा सकती थी। और दोनों सदा सतर्क रहते थे कि कहीं शेर न आ जाये। एक पहाड़ी पर गाय से मिलने के लिए एक दिन गिनी मुर्गी नदी पार कर रही थी……

Gini Murgi Ne Kaise Payin Chittiyan PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Gini Murgi chhotee see thee, lekin usaki Mitrata ek bade Pashu ke Sath thee. Usaki Mitra thee ek Gay. Donon ko vishal hari Pahadiyon par jana Achchha lagata tha. Jahan Gay ghas kha sakatee thee aur Nganagah beej chun sakati thee aur tiddon ko pakad kar kha sakati thee. Aur donon sada satark rahate the ki kahin sher na aa jaye. Ek pahadi par gay se milane ke liye ek din gini Murgi nadi par kar rahi thee……
Short Description of Gini Murgi Ne Kaise Payin Chittiyan PDF Book : The guinea fowl was small, but her friendship with a large animal. His friend was a cow. Both loved to go to the vast green hills. Where the cow could eat the grass and the nanggah could pick the seeds and eat the grasshoppers. And both were always alert that the lion would not come anywhere. One day a guinea hen was crossing the river to meet a cow on a hill ……
“सीखने से मस्तिष्क कभी नहीं थकता है।” – लियोनार्डो दा विंची
“Learning never exhausts the mind.” – Leonardo da Vinci

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment