गुलाब और बुलबुल : त्रिलोचन द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कविता | Gulab Aur Bulbul : by Trilochan Hindi PDF Book – Poem (Kavita)

Book Nameगुलाब और बुलबुल / Gulab Aur Bulbul`
Author
Category, , , , , ,
Language
Pages 150
Quality Good
Size 1 MB
Download Status Available

गुलाब और बुलबुल पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण :  दुख में भी परिचित मुखों को तुम ने पहचाना है क्या अपना ही सा उन का मन है यह कभी
माना है क्या जिन की हम ने याद की जिन के लिए बेठे रहे, वे हमें भूलें तो भूलें इस में पछताना है कया हाथ ही
हिलता न हो जब पाँव ही उठता न हो, इन की उन की बात से आना है क्या जाना है क्या आजकल क्‍या कुछ
इधर मेरे हृदय को हो गया, चुप ही चुप है, अब उसे रोना है क्या गाना है क्या.

Gulab Aur Bulbul` PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Dukh mein bhi Parichit mukhon ko tum ne pahchana hai kya apna hi sa un ka man hai yah kabhi mana hai kya jin ki ham ne yad ki jin ke liye baithe rahe, ve hamen bhoolen to bhoolen is mein pachhatana hai kaya hath hi hilata na ho jab panv hi uthata na ho, in ki un ki bat se aana hai k‍ya jana hai kya Aajkal k‍ya kuchh idhar mere hrday ko ho gaya, chup hi chup hai, ab use rona hai k‍ya Gana hai kya……

Short Description of Gulab Aur Bulbul` Hindi PDF Book : You have recognized the familiar faces even in sorrow, do they have a mind of their own, have they ever believed that those for whom we remember, they forget us, then forget that there is repentance in this, whether the hand does not move at all When the feet do not rise, what has to come from their talk, has anything happened to my heart these days, it is silent, now she has to cry, what is the song…….

 

“कुछ लोग जिसे ग़लती से जीवन स्तर की बढ़ती कीमतें समझ बैठते हैं, वह वास्तव में बढ़ चढ़ कर जीने की कीमत होती है।” ‐ डग लारसन
“What some people mistake for the high cost of living is really the cost of living high.” ‐ Doug Larson

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment