गुरु : श्री रमण महर्षि द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Guru : by Shri Raman Maharshi Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

गुरु : श्री रमण महर्षि द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - आध्यात्मिक | Guru : by Shri Raman Maharshi Hindi PDF Book - Spiritual (Adhyatmik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name गुरु / Guru
Author
Category
Language
Pages 203
Quality Good
Size 72 MB
Download Status Available

गुरु पुस्तक का कुछ अंश : सत्य हमेशा रहता है | वह नामरूपरहित है, फिर भी नामरूप का आधार है | स्वयं अनन्त होते हुए भी वह सब सीमाओं का आश्रय है | वह बद्ध नहीं है, और स्वयं सत्य होते हुए, सब मिथ्या पदार्थों का आधार है | सत्य वह है जो है | जो जैसा है वैसा ही हे | वह वाणी से परे है, वह सत, असत इत्यादि शब्दों से व्यक्त होने वाले ख्यालों से परे है…..

Guru PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Saty hamesha rahta hai. Vah naamruprahit hai, phir bhi naamroop ka aadhar hai. Svayan anant hote hue bhi vah sab simaon ka aashray hai. Vah baddh nahin hai, aur svayan saty hote hue, sab mithya padarthon ka aadhar hai. Saty vah hai jo hai. Jo jaisa hai vaisa hi hai. Vah vani se pare hai, vah sat, asat ityadi shabdon se vyakt hone vale khyalon se pare hai…………
Short Passage of Guru Hindi PDF Book : Truth always lives. He is unnamed, yet is the basis of Namrup. Despite being infinite itself, it is the shelter of all the seams. He is not bound, and by himself being truth, is the basis of all myths. The truth is that which is. That is what is the same. He is beyond speech, he is beyond the thoughts expressed by the words Sat, disagree etc……………
“बुद्धिमान व्यक्तियों की सलाह की आवश्यकता नहीं होती है। मूर्ख लोग इसे स्वीकार नहीं करते हैं।” ‐ बेंजामिन फ्रेंकलिन
“Wise men don’t need advice. Fools won’t take it.” ‐ Benjamin Franklin

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment