मैं कौन हूँ : श्री रमण महर्षि द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Main Kaun Hun : by Shri Raman Maharshi Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

मैं कौन हूँ : श्री रमण महर्षि द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - आध्यात्मिक | Main Kaun Hun : by Shri Raman Maharshi Hindi PDF Book - Spiritual (Adhyatmik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name मैं कौन हूँ / Main Kaun Hun
Author
Category
Pages 28
Quality Good
Size 3.8 MB
Download Status Available

मैं कौन हूँ पुस्तक का कुछ अंश : जिसे मन कहते है, वह आत्मा में निवास करने वाली आश्चर्यजनक शक्ति है | इसी से सभी विचार उदित होते है | विचारों के अतिरिक्त मन जैसी कोई चीज़ है ही नहीं | इसलिए विचार मन का स्वरूप है | विचारों के अतिरिक्त जगत का कोई अलग अस्तित्व नहीं है | (गहन) निद्रा में जब कोई विचार नहीं होता, तब कोई जगत भी नहीं होता है…….

Main Kaun Hun PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Jise man kahte hai, vah aatma mein nivas karne vali aashcharyajanak shakti hai. Isi se sabhi vichar udit hote hai. Vicharon ke atirikt man jaisi koi chiz hai hi nahin. Islie vichar man ka svarup hai. Vicharon ke atirikt jagat ka koi alag astitv nahin hai. (Gahan) nidra mein jab koi vichar nahin hota, tab koi jagat bhi nahin hota hai…………
Short Passage of Main Kaun Hun Hindi PDF Book : The mind that is called, is the amazing power of living in the soul. From this, all thoughts are raised. There is no such thing as the mind of the thoughts. Therefore, thoughts are the nature of the mind. In addition to ideas, the world has no different existence. When there is no thought (deep) in sleep, then there is no world………….
“जब भी आपको हंसने का अवसर मिले, तो हंसे। यह एक सुलभ दवा है।” – लार्ड ब्रायन
“Always laugh when you can. It is cheap medicine.” – Lord Byron

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment