हल्दी के दाग : सुदर्शन चोपड़ा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Haldi Ke Dag : by Sudarshan Chopra Hindi PDF Book – Story (Kahani)

Book Nameहल्दी के दाग / Haldi Ke Dag
Author
Category, , , , , ,
Language
Pages 260
Quality Good
Size 806 MB

पुस्तक का विवरण : थारे घर में ही। और नहीं तो क्या मै पीहर दे आयी हूँ ? चिम्मो ने तुनककर कहा। यह सुनकर बिरजू की आँखें तमतमा आयीं। उसने चुटकी मार कर बीड़ी का गुल झाड़ते हुए कहा, ”कमबख्त, अपने ई मरद के संग बेईमानी करे है ? छिनाल ! ”इतना कहते ही बिरजू ने बीड़ी फेंक दी और एक जोरदार घूंसा चिम्मो की कमर में दे मारा। चिम्मो दीवार के साथ जा टकराई…….

Pustak Ka Vivaran : Thare Ghar mein hi. Aur nahin to kya mai peehar de aayi hoon ? Chimmo ne tunakakar kaha. Yah sunakar birajoo ki Aankhen tamatama aayeen. Usane chutaki mar kar beedee ka gul jhadate huye kaha, kamabakht, apane ee marad ke sang beimani kare hai ? Chhinal ! Itna kahate hi birajoo ne beedee phenk di aur ek jordar ghoonsa chimmo ki kamar mein de mara. Chimmo deevar ke sath ja takrai…….

Description about eBook : In the house itself. And if not, have I given up? Chimo said chuckled. Hearing this, Birju’s eyes lit up. He pinched the beedi and said, “Fucking, have you been dishonest with your man? Chinal! “As soon as he said this, Birju threw the beedi and gave a strong punch to Chimmo’s waist. Chimo collided with the wall……

“उन लोगों से दूर रहें जो आप आपकी महत्त्वकांक्षाओं को तुच्छ बनाने का प्रयास करते हैं। छोटे लोग हमेशा ऐसा करते हैं, लेकिन महान लोग आपको इस बात की अनुभूति करवाते हैं कि आप भी वास्तव में महान बन सकते हैं।” ‐ मार्क ट्वेन
“Keep away from people who try to belittle your ambitions. Small people always do that, but the really great make you feel that you, too, can become great.” ‐ Mark Twain

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment