हमारे साहित्य में हास्य रस : कृष्ण कुमार श्रीवास्तव | Hamare Sahitya Me Hasya Ras : by Krishna Kumar Srivastava Hindi PDF Book

पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name हमारे साहित्य में हास्य रस / Hamare Sahitya Me Hasya Ras
Author
Category,
Language
Pages 321
Quality Good
Size 11 MB
Download Status Available

हमारे साहित्य में हास्य रस पुस्तक का कुछ अंश : योगिराज परमहंस श्री स्वामी शिवानन्द जी की यह मनोविज्ञान की शास्त्रीय कृति वेदांत और योग के विषय में मनोनिग्रह के लिए अनुपम और परमोपयोगी है| हिन्दी साहित्य में ऐसी पुस्तक की आवश्यकता का अनुमान करके इसका भाषान्तर करने का बाल प्रयास किया है…………..

Hamare Sahitya Me Hasya Ras PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Yogiraj Paramhans Shri Svami Shivanand jee ki yah Manovigyan ki shastriy krti vedant aur yog ke vishay mein manonigrah ke liye anupam aur paramopayogi hai. Hindi sahity mein aisee pustak ki Aavashyakata ka anuman karke isaka bhashantar karane ka bal prayas kiya hai…………..
Short Passage of Hamare Sahitya Me Hasya Ras Hindi PDF Book : This classical work of psychology by Yogiraj Paramhans Shri Swami Shivanand ji is unique and very useful for meditation on the subject of Vedanta and Yoga. Anticipating the need of such a book in Hindi literature, a child effort has been made to translate it……
“दूसरों की पुष्टि पर निर्भर करने की तुलना में स्वयं को जानने तथा स्वीकार करने- अपनी शक्तियों तथा अपनी सीमाओं को जान लेने से वास्तविक विश्वास की उत्पत्ति होती है।” ‐ जूडिथ एम. बार्डविक
“Real confidence comes from knowing and accepting yourself – your strengths and your limitations – in contrast to depending on affirmation from others.” ‐ Judith M. Bardwick

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment