हिरौल : सन्त गोकुलचन्द्र द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – नाटक | Hiraul : by Sant Gokul Chandra Hindi PDF Book – Drama (Natak)

Book Nameहिरौल / Hiraul
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 66
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : रण में अनेकों वीर खेत आते रहे हैं, किन्तु उनके सामने जहां मरने का भय होता है, वहां मारने की आशा भी होती है। इसी आशा को लिये वे रणांगण में कूदते हैं | परन्तु कौन मनुष्य सामने खड़ी अवश्य॑भावी भयंकर मृत्यु का इस प्रकार जान-बुझ कर सहर्ष आलिंगन करता है ! वल्लजी ही ऐसे थे जिन्होंने यह किया | उनकी वह हिम्मत और बलिदान हमारे नवयुवकों के……

Pustak Ka Vivaran : Ran Mein Anekon veer khet Aate rahe hain, Kintu unake samane jahan marane ka bhay hota hai, vahan marane ki Aasha bhi hoti hai. Isi Aasha ko liye ve Ranangan mein koodate hain . Parantu kaun manushy samane khadi avashyambhavi bhayankar mrtyu ka is prakar jan-bujh kar saharsh aalingan karata hai ! Vallaji hi aise the jinhonne yah‌ kiya. Unaki vah himmat aur balidan hamare Navayuvakon ke……….

Description about eBook : Many brave fields have been coming in the battle, but where there is a fear of dying in front of them, there is also the hope of killing them. With this hope, they jump into the Ranangana. But which person stands happily embracing the inevitable fatal death in this way! Vallaji was the only one who did this. His courage and sacrifice of our young men ……….

“मैं कठिनाईयों से बचने की प्रार्थना नहीं करता हूं, बल्कि मैं उन्हें सहन करने के लिए पर्याप्त सामर्थ्य प्रदान करने की प्रार्थना करता हूं।” – फिलिप ब्रूक्स
“I do not pray for a lighter load, but for a stronger back.” – Philip Brookes

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment