सती वसुमति : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – नाटक | Sati Vasumati : Hindi PDF Book – Drama (Natak)ती वसुमति : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – नाटक | Sati Vasumati : Hindi PDF Book – Drama (Natak)

Book Nameसती वसुमति / Sati Vasumati
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 472
Quality Good
Size 14 MB
Download Status Available

सती वसुमति का संछिप्त विवरण : पुत्री तेरा यह कथन ठीक है, लेकिन माता-पिता को, अपने कर्तव्य का पालन करना आवश्यक है। हमारा कर्तव्य है, कि जैसी तेरी इच्छा देखे, वैसा ही करे। बलात न तो विवाह ही कर सकते है, न ब्रह्मचर्य ही पलवा सकते है। यदि तू कहे कि फिर मेरी इच्छा जानने के लिए आपने विवाह का ही विचार क्‍यों किया, ब्रह्मचर्य का विचार क्यों नहीं किया, तो इसका ………

Sati Vasumati PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Putri Tera yah kathan theek hai, Lekin Mata-pita ko, apane kartavy ka palan karana aavashyak hai. Hamara kartavy hai, ki jaisi teri ichchha dekhe, vaisa hee kare. Balat Na to vivah hee kar sakate hai, na brahmachary hee palava sakate hai. Yadi too kahe ki phir meri Ichchha janane ke liye aapane vivah ka hee vichar kyon kiya, brahmachary ka vichar kyon nahin kiya, to isaka…………
Short Description of Sati Vasumati PDF Book : Your statement, daughter, is fine, but parents are required to perform their duties. It is our duty to do as you wish. Forces can neither marry nor celibate. If you say why did you think of marriage, why did you not consider celibacy to know my wish……….
“जब आप स्थितियों को देखने का अपना नजरिया बदल देते हैं, तो वे स्थितियां जिन्हें आप देखते हैं, बदल जाती हैं।” ‐ वायन डायर
“When you change the way you look at things, the things you look at change.” ‐ Wayne Dyer

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment