“जनपद जालौन के कृषि विकास में जिला सरकारी बैंक की भूमिका” : शरद जी श्रीवास्तव द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कृषि | “Janpad Jaluan Ke Krishi Vikas May Jila Shakhari Bank Ki Bhumika” : by Sharad Ji Shrivastav Hindi PDF Book – Agriculture ( Krishi )

"जनपद जालौन के कृषि विकास में जिला सरकारी बैंक की भूमिका" : शरद जी श्रीवास्तव द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कृषि | "Janpad Jaluan Ke Krishi Vikas May Jila Shakhari Bank Ki Bhumika" : by Sharad Ji Shrivastav Hindi PDF Book - Agriculture ( Krishi )
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name “जनपद जालौन के कृषि विकास में जिला सरकारी बैंक की भूमिका” / Janpad Jaluan Ke Krishi Vikas May Jila Shakhari Bank Ki Bhumika
Author
Category
Language
Pages 359
Quality Good
Size 260 MB
Download Status Available

जनपद जालौन के कृषि विकास में जिला सरकारी बैंक की भूमिका का संछिप्त विवरण : भारत में आयोजन के संधापक सहकारिता को दलित, शोषित व पिछड़े वर्गों के आर्थिक विकासार्थ विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रो में एक मात्र समुचित, समीचीन और संतोषप्रद हल समझते थे और आज भी वे ग्राम पंचायत, ग्राम सहकारी समिति और ग्राम विधालय को ऐसे संस्थानों की त्रिमूर्ति स्वीकार करते है जिस पर आधारित एक स्वावलंबी और सामाजार्थिक व्रष्टि से महत्वपूर्ण और न्यायपूर्ण समग्र सामाजार्थिक सम्पन्न व्यवस्था स्थापित की जा सकती है…….

 Janpad Jaluan Ke Krishi Vikas May Jila Shakhari Bank Ki Bhumika PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Bharat mein aayojan ke santhapak sahkarita ko dalit, shoshit va pichade vargon ke aarthik vikasarth visheshakar gramin kshetro mein ek matr samuchit, samichin aur santoshprad hal samajhte the aur aaj bhi ve gram panchayat, gram sahakari samiti aur gram vidhalay ko aise sansthanon ki trimurti svikar karte hai jis par aadharit ek svavalambi aur samajarthik drashti se mahatvpurn aur nyayapurn samagr samajarthik sampann vyavastha sthapit ki ja sakti hai…………
Short Description of Janpad Jaluan Ke Krishi Vikas May Jila Shakhari Bank Ki Bhumika PDF Book : In India, the co-operative of the event used to consider the cooperative, the only proper, expedient and satisfactory solution for the economic development of the dalit, exploited and backward classes, especially in the rural areas, and even today they accept the trinity of the Gram Panchayat, the village co-operative society and the Village Vidyalaya. Based on which a self-supporting and socio-economic viewpoint is important and equitable for the overall socio-economic Est can be installed…………..
“आप आज किसी वृक्ष की छाया में बैठे हैं क्योंकि किसी ने बहुत समय पहले एक पौधा लगाया था।” ‐ वॉरन बफैट
“Someone is sitting in the shade today because someone planted a tree a long time ago.” ‐ Warren Buffett

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment