जनसंचार : डॉ. हरीश अरोड़ा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Jansanchar : by Dr. Harish Aroda Hindi PDF Book – Social (Samajik)

जनसंचार : डॉ. हरीश अरोड़ा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Jansanchar : by Dr. Harish Aroda Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name जनसंचार / Jansanchar
Author
Category,
Language
Pages 293
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : आखिर ऐसा क्‍यों है कि पत्रकारिता को मिशन के रूप मे स्वीकार करने वाले लोग भी आज इसे प्रोफेशन के रूप में अपनाने लगे हैं ? निश्चित रूप से निजी कम्पनियों के इस क्षेत्र में आने के कारण पत्रकारिता ने भी अपने आपको बाजार में धकेल दिया है। अब बाजार ही मीडिया की नीतियों को तय करता है और मीडिया उसी के आधार पर बाजार में अपनी माँग को बढ़ाता है……

Pustak Ka Vivaran : Aakhir aisa kyon hai ki Patrakarita ko mission ke roop me svikar karane vale log bhi Aaj ise propheshan ke roop mein apnane lage hain ? Nishchit roop se Niji Companies ke is kshetra mein aane ke karan patrakarita ne bhi apne Apko bajar mein dhakel diya hai. Ab Bajar hi meedia ki Neetiyon ko tay karata hai aur meedia usi ke Aadhar par bazar mein apni mang ko badhata hai……..

Description about eBook : After all, why is it that even people who accept journalism as a mission are adopting it as a profession today? Certainly journalism has also pushed itself in the market due to the coming of private companies in this field. Now the market decides the policies of the media and on the basis of that the media increases its demand in the market…….

“जब आप स्थितियों को देखने का अपना नजरिया बदल देते हैं, तो वे स्थितियां जिन्हें आप देखते हैं, बदल जाती हैं।” ‐ वायन डायर
“When you change the way you look at things, the things you look at change.” ‐ Wayne Dyer

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment