जय अमरनाथ : यशपाल जैन द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Jay Amarnath : by Yashpal Jain Hindi PDF Book – Story (Kahani)

जय अमरनाथ : यशपाल जैन द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Jay Amarnath : by Yashpal Jain Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name जय अमरनाथ / Jay Amarnath
Author
Category,
Language
Pages 140
Quality Good
Size 5 MB
Download Status Available

जय अमरनाथ पुस्तक का कुछ अंश : रात भर का सफर था | थोड़ी देर चर्चा कर-करा सो गए | सवेरे आंख खुली तो पठानकोट आने वाला था | पौने सात पर वहा पहुंचे | कश्मीर के लिए यही अंतिम स्टेशन है | आगे कार या बस दवारा जाना होता है | हवाई जहाज भी जाता है | पर जिन्हें कश्मीर की प्राकतिक सुषमा के दर्शन करने है, उन्हें बस या कार से होना चाहिए | समय अधिक अवश्य लगता है……..

Jay Amarnath PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Rat bhar ka Safar tha. Thodi der Charcha kar-kara so Gye. Savere Ankh khuli to Pathankot Ane Vala tha. Paune Sat par vaha pahunche. Kashmir ke liye Yahi Antim Steshan hai. Age Car ya bas dvara jana hota hai. Havai Jahaj bhi jata hai. Par Jinhen kashmir ki Prakatik Sushama ke darshan karane hai, Unhen bus ya Car se hona chahiye. Samay Adhik avashy lagta hai………….
Short Passage of Jay Amarnath Hindi PDF Book : The night was a journey. He talked a little while and went to sleep. If the eye was open in the morning, Pathankot was about to come. He reached there on seven hundred. This is the last station for Kashmir. Next is to go by car or bus. Airplane also goes. But those who want to see the natural Sushma of Kashmir, they should be with a Bus or a car. Time seems to be more,…………..
“मुझे इस बात का अफसोस नहीं कि आपने मुझसे झूठ बोला, मुझे तो इस बात का अफसोस है कि मैं आप पर अब विश्वास नहीं कर सकूंगा।” फ़्रेडरिख निट्ज़
“I’m not upset that you lied to me, I’m upset that from now on I can’t believe you.” Friedrich Nietzsche

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment