जो इतिहास में नहीं है : विमल मित्र द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Jo Itihas Me Nahin Hai : by Vimal Mitra Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Nameजो इतिहास में नहीं है / Jo Itihas Me Nahin Hai
Author
Category, , , ,
Language
Pages 206
Quality Good
Size 8 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : जिन्दगी-भर लिखते-लिखते आज में प्रौढ़ता की सीमा पर आ पहुंचा हूँ। लेखन-कार्य के लिए मैंने स्थायी व अच्छी-खासी नौकरी पाकर भी छोड़ दी। साहित्य को ही मैंने अपनी आजीविका का एकमात्र साधन बना लिया है। तीस वर्ष लगातार मैं रात में सोया नहीं। मैंने सिर्फ यही चाहा हे कि इतिहास से युग के मानव कुछ शिक्षा पाए। लेकिन एक जर्मन कवि कह गये है…..

Pustak Ka Vivaran : Zindagi-bhar Likhate-likhate Aaj main Praudhata kee seema par aa Pahuncha hoon. Lekhan-Kary ke liye mainne sthayi va achchhi-khasi Naukari Pakar bhee chhod dee. Sahity ko hee mainne apani Aajivika ka Ekmatra sadhan bana liya hai. Tees varsh lagatar main Rat mein soya nahin. Mainne sirf yahee chaha hai ki itihas se yug ke Manav kuchh shiksha paye. Lekin Ek German kavi kah gaye hai……….

Description about eBook : By writing throughout my life, I have reached the threshold of maturity. I quit after getting a permanent and good job for writing. I have made literature my only means of livelihood. I haven’t slept at night for thirty years. I only wished that the humans of the era could get some education from history. But a German poet has said……….

“केवल जानना पर्याप्त नहीं है, हमें अवश्य ही प्रयोग भी करना चाहिए। केवल इच्छा करना पर्याप्त नहीं है, बल्कि हमें कार्य करना भी चाहिए।” ‐ गोएथ
“Knowing is not enough; we must apply. Willing is not enough; we must do.” ‐ Goethe

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment