कगार और फिसलन : विमल मित्र द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Kagar Aur Fislan : by Vimal Mitra Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Nameकगार और फिसलन / Kagar Aur Fislan
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 120
Quality Good
Size 3 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : कहानी लिखते समय में अपनी आँखों के सामने अपने चरित्रों और पात्रों के चेहरे स्पष्ट देखता हैं। बहुत-से आदमियों के नाम के साथ उनके चेहरे में कोई समता नहीं होती लेकिन वह उनके नामकरण करने वालों की भूल है। पर कहानी लेखक जब अपनी कहानी के चरित्रों का नामकरण करते हैँ तब उसमें भूल होने पर मुझे बड़ा दुःख होता है……..

Pustak Ka Vivaran : Kahani Likhate samay mein apani Aankhon ke samane apane charitron aur patron ke chehare spapt dekhata hain. Bahut-se Aadamiyon ke nam ke sath unake chehare mein koi samata nahin hoti lekin vah unake namkaran karane valon ki bhool hai. Par kahani Lekhak jab apani kahani ke charitron ka namkaran karate hain tab usamen bhool hone par mujhe bada duhkh hota hai………..

Description about eBook : While writing the story, I see the faces of my characters and characters in front of my eyes. Many men have no resemblance to their names, but that is the mistake of their nomenclature. But when the story writers name the characters of their story, then I feel very sorry for the mistake ………..

“दुनिया बहुत कष्ट सहती है। बुरे लोगों की हिंसा के कारण नहीं, बल्कि अच्छे लोग के मौन के कारण।” ‐ नेपोलियन
“The world suffers a lot. Not because of the violence of bad people, but because of the silence of good people.” ‐ Napoleon

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment