कालिदास की कला और संस्कृत : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – काव्य | Kalidas Ki Kala Or Sanskrit : Hindi PDF Book – Poetry ( Kavya )

कालिदास की कला और संस्कृत : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - काव्य | Kalidas Ki Kala Or Sanskrit : Hindi PDF Book - Poetry ( Kavya )
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name कालिदास की कला और संस्कृत / Kalidas Ki Kala Or Sanskrit
Author
Category, ,
Language
Pages 564
Quality Good
Size 52.8 MB
Download Status Available

कालिदास की कला और संस्कृत पुस्तक का कुछ अंश : जिन्हें जीवन से रूचि है, जो यह चाहते है कि वे मानव-जीवन को मनुष्य के अनुरूप ही व्यतीत करे वे अपने अन्दर की शक्तियों को पहचाने, उन पर विश्वास करे और उन्हें अनुकूल उपयोग बनाने के प्रयत्न में लग जावे | जीवन को ऊँचा उठाना और सुन्दर से सुन्दर बनाना ही मानव-जीवन का लक्ष्य है | निरूद्देश्य जीवन बिताने में न तो कोई शोभा………

Kalidas Ki Kala Or Sanskrit PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Jinhen jeevan se ruchi hai, jo yah chahte hai ki ve manav-jeevan ko manushy ke anurup hi vyatit kare ve apne andar ki shaktiyon ko pahachane, un par vishvas kare aur unhen anukul upayog banane ke prayatn mein lag jave. Jeevan ko uncha uthana aur sundar se sundar banana hi manav-jeevan ka lakshy hai. Niruddeshy jeevan bitane mein na to koi shobha hai…………
Short Passage of Kalidas Ki Kala Or Sanskrit Hindi PDF Book : Those who are interested in life, who want them to live human life according to human beings, recognize their inner strengths, believe in them, and try to make them favorable. The goal of human life is to elevate life and beautify it beautifully. There is no beauty in living a purposeless life…………
“मीठे बोल संक्षिप्त और बोलने में आसान हो सकते हैं, लेकिन उनकी गूंज सचमुच अनंत होती है।” ‐ मां टेरेसा
“Kind words can be short and easy to speak, but their echoes are truly endless.” ‐ Mother Teresa

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment