सभी मित्र, हस्तमैथुन के ऊपर इस जरूरी विडियो को देखे और नाम जप की शक्ति को अपने जीवन का जरुरी हिस्सा बनाये
वीडियो देखें

हिंदी संस्कृत मराठी ब्लॉग

काव्य – कौस्तुभ / Kavya – Koustubh

काव्य - कौस्तुभ : पं० विद्याभूषण मिश्र द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - साहित्य | Kavya - Koustubh : by Pt. Vidya Bhushan Mishra Hindi PDF Book - Literature (Sahitya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name काव्य – कौस्तुभ / Kavya – Koustubh
Author
Category, , , , , ,
Pages 237
Quality Good
Size 13 MB
Download Status Available

सभी मित्र हस्तमैथुन के ऊपर इस जरूरी विडियो को देखे, ज्यादा से ज्यादा ग्रुप में शेयर करें| भगवान नाम जप की शक्ति को पहचान कर उसे अपने जीवन का जरुरी हिस्सा बनाये|

पुस्तक का विवरण : किसी राजा के यहाँ दो पंडित पुरस्कार पाने की इच्छा से गए ! उनमें से एक व्याकरण- शास्त्र का वेत्ता था और दूसरा साहित्य का रसिक । वे दोनों अपने को परस्पर एक दूसरे से बढ़कर समझते थे । राजा ने उनकी परीक्षा लेने के लिये सामने की ओर एक सूखा पेड़ दिखाकर उनसे उसका वर्णन करने के लिये कहा । व्याकरण-शास्त्री ने कहा-“‘सामने शुष्क काष्ठ विद्यमान है…….

Pustak Ka Vivaran : Kisi Raja ke Yahan do Pandit Puraskar Pane ki Ichchha se gaye ! Unamen se ek Vyakaran-Shastra ka vetta tha aur Doosara Sahity ka Rasik . Ve Donon Apane ko paraspar ek doosare se badhakar Samajhate the . Raja ne unaki Pareeksha lene ke liye samane ki or ek Sookha ped dikhakar unase usaka varnan karane ke liye kaha . Vyakaran-shastri ne kaha-“Samane Shushk kashth Vidyaman hai……..

Description about eBook : Two pundits went to a king with the desire to get prizes! One of them was Veta of grammar-scripture and the other was Rasik of literature. They both considered themselves more than each other. To test him, the king showed a dry tree in the front and asked him to describe it. The grammar-scholar said – “Dry wood exists in front ……..”

“आप किसी व्यक्ति को धोखा देते हैं तो आप अपने आपको भी धोखा देते हैं।” आइज़ेक बेशेविस सिंगर
“When you betray somebody else, you also betray yourself.” Isaac Bashevis Singer

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Leave a Comment