कुण्डलिनी योग : डॉ. राकेश गिरी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – योग | Kundalini Yoga : by Dr. Rakesh Giri Hindi PDF Book – Yoga

कुण्डलिनी योग : डॉ. राकेश गिरी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - योग | Kundalini Yoga : by Dr. Rakesh Giri Hindi PDF Book - Yoga
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name कुण्डलिनी योग / Kundalini Yoga
Author
Category, ,
Language
Pages 138
Quality Good
Size 47.7 MB
Download Status Available

कुण्डलिनी योग का संछिप्त विवरण : योग विद्या का इतिहास बहुत प्राचीन है जो स्वास्थ्य, सौंदर्य, शांति और आत्मदर्शन के अभिलाषी है वे योग का अभ्यास करते है। योग एक सच्ची विद्या है, जिसका फल प्रत्यक्ष प्राप्त होता है। वैदिक युग में ही जब ऋषियों ने ब्रह्म-विद्या के सम्बन्ध में अन्वेषण किया तभी उन्हें योग विद्या की आवश्यकता प्रतीत हुई। वास्तुत कुछ विद्वानों…

Kundalini Yoga PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Yog Vidya ka Itihas Bahut pracheen hai jo svasthy, Saundary, Shanti aur Aatmadarshan ke Abhilashi hai ve yog ka Abhyas karate hai. Yog ek sachchi vidya hai, jisaka phal pratyaksh prapt hota hai. Vaidik yug mein hi jab Rishiyon ne brahm-vidya ke sambandh mein Anveshan kiya Tabhi unhen yog vidya ki Aavashyakata prateet huyi. Vastut kuchh vidvanon……….
Short Description of Kundalini Yoga PDF Book : The history of yoga is very ancient, those who aspire for health, beauty, peace and self-realization, they practice yoga. Yoga is a true discipline, which results directly. It was only in the Vedic era that when the sages researched in relation to theology, they felt the need of yoga. Actually some scholars ………
“केवल प्रतिभाशाली होने से ही काम नहीं चलता। ईश्वर प्रतिभा देता है तो प्रतिभा को विलक्षणता में परिणत कर देता है काम।” अन्ना पाव्लोवा (१८८१-१९३१), रूसी नर्तकी
“No one can arrive from being talented alone. God gives talent; work transforms talent into genius.” Anna Pavlova.(1881-1931), Russian ballerina

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment