लाल और पीला : ख्वाजा अहमद अब्बास द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Lal Aur Peela : by Khwaja Ahmad Abbas Hindi PDF Book – Story (Kahani)

लाल और पीला : ख्वाजा अहमद अब्बास द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Lal Aur Peela : by Khwaja Ahmad Abbas Hindi PDF Book – Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Author
Category, , , ,
Language
पुस्तक का डाउनलोड लिंक नीचे हरी पट्टी पर दिया गया है|
“मैंने प्रेम को ही अपनाने का निर्णय किया है। द्वेष करना तो बेहद बोझिल काम है।” मार्टिन लूथर किंग, जूनियर
“I have decided to stick with love. Hate is too great a burden to bear.” Martin Luther King, Jr.

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

लाल और पीला : ख्वाजा अहमद अब्बास द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Lal Aur Peela : by Khwaja Ahmad Abbas Hindi PDF Book – Story (Kahani)

लाल और पीला : ख्वाजा अहमद अब्बास द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Lal Aur Peela : by Khwaja Ahmad Abbas Hindi PDF Book – Story (Kahani)

  • Pustak Ka Naam / Name of Book : लाल और पीला / Lal Aur Peela Hindi Book in PDF
  • Pustak Ke Lekhak / Author of Book : ख्वाजा अहमद अब्बास / Khwaja Ahmad Abbas
  • Pustak Ki Bhasha / Language of Book : हिंदी / Hindi
  • Pustak Ka Akar / Size of Ebook : 14 MB
  • Pustak Mein Kul Prashth / Total pages in ebook : 220
  • Pustak Download Sthiti / Ebook Downloading Status : Best

(Report this in comment if you are facing any issue in downloading / कृपया कमेंट के माध्यम से हमें पुस्तक के डाउनलोड ना होने की स्थिति से अवगत कराते रहें )

लाल और पीला : ख्वाजा अहमद अब्बास द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Lal Aur Peela : by Khwaja Ahmad Abbas Hindi PDF Book – Story (Kahani)

 

Pustak Ka Vivaran : Mujhe us samay bombay aaye sirph ek mahina huya tha . Lekin untees dinon me meri kaya hi palat gayi thee . Aisa lagata tha ki vah Naujavan, jo boribandar ke station par utara tha, ab sath varsh ka boodha ho chuka hai . Na jane meri Aakhon ki chamak, mere Galon ki Surkhee, mere badan kee Takat in tees dinon mein kahan Gayab ho gayi thee . Main third Class mein Hathras se bombay Aaya tha……….

अन्य कहानी पुस्तकों के लिए यहाँ दबाइए- “कहानी हिंदी पुस्तक

Description about eBook : It was only a month since I came to Bombay at that time. But in twenty-nine days my body was turned. It seemed that the young man, who had landed at Boribandar station, is now sixty years old. Do not know where the glow of my eyes, the headlines of my cheeks, the strength of my body had disappeared in these thirty days. I came to Bombay from Hathras in third class ……….

To read other Story books click here- “Story Hindi Books

 

सभी हिंदी पुस्तकें ( Free Hindi Books ) यहाँ देखें

 

श्रेणियो अनुसार हिंदी पुस्तके यहाँ देखें

 

“हर सुबह जब आप जागते हैं तो अपने भगवान को धन्यवाद दें तथा आप अनुभव करते है कि आपने वह कार्य करना है जिसे अवश्य किया जाना चाहिए, चाहे आप इसे पसंद करें या नहीं। इससे चरित्र का निर्माण होता है।”

‐ एमरसन

——————————–

“Thank God every morning you get up and find you have something to do that must be done, whether you like it or not. That builds character.”

‐ Emerson

Connect with us on Facebook and Instagram – सोशल मीडिया पर हमसे जुड़ने के लिए हमारे पेज लाइक करें. लिंक नीचे दिए है

Leave a Comment