महाप्रस्थान के पथ पर : प्रबोध कुमार सान्याल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Mahaprasthan Ke Path Par : by Prabodd Kumar Sanyal Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Nameमहाप्रस्थान के पथ पर / Mahaprasthan Ke Path Par
Author
Category, , , , , ,
Language
Pages 164
Quality Good
Size 9 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : उसके चरणो के पास जाकर बैठकर प्रणाम किया। ऐसा जान पड़ा कि आने के पहले ही ब्रह्मचारी ने मेरे बारे मे इनसे बातचीत कर रखी है। अभी तक नही देखा था, पास ही में एक शीर्णकाय बुद्ध हाथ में एक एकतारा लेकर बैठे हुए हैं, सन्त के समान यही गायक हैं। आदर-सत्कार में कमी नहीं हुई, अनेक तीर्थों के बारे में बातचीत होने लगी………

Pustak Ka Vivaran : Usake Charano ke Pas Jakar Baithkar pranam kiya. Aisa jan pada ki Aane ke pahale hi Brahmachari ne Mere bare me Inase Batcheet kar Rakhi hai. Abhi Tak Nahi Dekha tha, Pas hi Mein ek Sheernakay Buddh hath mein ek Ekatara lekar baithe huye hain, Sant ke Saman yahi Gayak hain. Aadar-Satkar mein kami nahin huyi, Anek Teerthon ke bare mein batcheet hone lagi……..

Description about eBook : He sat near his feet and bowed. It seemed that Brahmachari had talked to me about this before coming. Haven’t seen it yet, a shinarakaya Buddha is sitting with a monk in his hand, he is the same singer as a saint. There was no lack of respect, talks about many pilgrimages started ……

“सीखने से मस्तिष्क कभी नहीं थकता है।” ‐ लियोनार्डो दा विंची
“Learning never exhausts the mind.” ‐ Leonardo da Vinci

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment