मंगल वाणी : आचार्य श्री नानालाल जी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Mangal Vani : by Acharya Shri Nanalal Ji Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

Book Nameमंगल वाणी / Mangal Vani
Author
Category, , ,
Language
Pages 244
Quality Good
Size 9 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : परमात्मा की चरणसेवा के लिए भव्य जनों का मन, मयूर की तरह नृत्य करने लगता है। एक भव्य जन चाहता है कि मैं प्रभु की चरण सेवा करू। लेकिन यह चरण सेवा किस तरीके से की जाय ? उसकी कौन-सी विधि है कि जिस विधि से-जिस रीति से तलवार की धार पर चलने से अधिक कठिन और देवों से भी अशक्य, परमात्मा की वह मानव कर सके ? जिज्ञासु व्यक्तियों का…….

Pustak Ka Vivaran : Paramatma ki charanaseva ke liye bhavy janon ka man, Mayoor ki Tarah nrty karane lagata hai. Ek Bhavy jan chahata hai ki main prabhu ki charan seva karoo. Lekin yah charan seva kis tarike se ki jay ? Usaki kaun-si vidhi hai ki jis vidhi se-jis Reeti se Talvar ki dhar par chalane se Adhik kathin aur devon se bhi Ashaky, Paramatma ki vah Manav kar sake ? Jigyasu vyaktiyon ka…….

Description about eBook : The mind of grand people dances like a peacock for the stage service of God. A grand person wants me to do the Lord’s Charan service. But how should this step be done? What is his method that the method – in which way it is more difficult than walking on the edge of the sword and inedible than the gods, that God of God can do it? Curious people ……..

“महान उपलब्धियां, लगातार की जाने वाली छोटी छोटी उपलब्धियों का कुल योग होती हैं।” ‐ क्रिस्टोफर मोरले
“Big shots are only little shots who keep shooting.” ‐ Christopher Morley

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment