मार्कंडेय पुराण : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – पुराण | Markandeya Purana : Hindi PDF Book – Puran

मार्कंद्य पुराण : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - पुराण | Markandya Puran : Hindi PDF Book - Puran
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name मार्कंडेय पुराण / Markandeya Purana
Category, , , ,
Language
Pages 296
Quality Good
Size 17 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : भगवन्‌ ! इस प्रकार यह महाभारत उपाख्यान बेदों का विस्ताररूप है। इसमें बहुत-से विषयों का प्रतिपादन किया गया है। मैं इसे यथार्थ रूप से जानना चाहता हूँ और इसोलिये आपको सेवा में उपस्थित हुआ हूँ। जगत्‌ की सृष्टि, पालन और संहार के एकमात्र कारण सर्वव्यापी भगवान्‌ जनार्दन निर्गुण होकर भी मनुष्य रूप में कैसे प्रकट हुए…………

Pustak Ka Vivaran : Bhagvan‌ ! Is Prakar yah Mahabharat upakhyan bedon ka Vistararoop hai. Isamen bahut-se vishayon ka pratipadan kiya gaya hai. Main ise yatharth roop se janana chahata hoon aur isiliye aapako seva mein upasthit huya hoon. Jagat‌ ki srshti, palan aur sanhar ke ekamatra karan Sarvavyapi bhagvan‌ janaardan nirgun hokar bhi manushy roop mein kaise prakat huye…….

Description about eBook : Lord! Thus this Mahabharata anecdote is an extension of the Vedas. It covers many topics. I really want to know this and that is why I am present in your service. How did the omnipresent Lord Janardana appear in human form despite being nirguna, the sole reason for the creation, maintenance and destruction of the world…..

“एक बार काम शुरू कर लें तो असफलता का डर नहीं रखें और न ही काम को छोड़ें। निष्ठा से काम करने वाले ही सबसे सुखी हैं।” ‐ चाणक्य
“Once you start a working on something, don’t be afraid of failure and don’t abandon it. People who work sincerely are the happiest.” ‐ Chanakya

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment