श्री वराह पुराण : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – पुराण | Shri Varaha Puran : Hindi PDF Book – Puran

श्री वराह पुराण : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - पुराण | Shri Varaha Puran : Hindi PDF Book - Puran
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name श्री वराह पुराण / Shri Varaha Puran
Category, , ,
Language
Pages 392
Quality Good
Size 23.7 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : जिन अनन्तरूप भगवान विष्णु (वराह) ने प्राचीन काल में समुद्रों से घिरी, वन-पर्वत एवं नदियों सहित पृथ्वी को अत्यंत विशाल शरीर के द्वारा अपनी दाढ़ के अग्रभाग पर मिट्टी के (छोटे-से) ढेले की भांति उठा लिया था, वे कंस, मुर, नरक तथा रावणआदि असुरों का अंत करने वाले कृष्ण एवं विष्णुरूप से सबने व्याप्त देवदेवेश्वर आदिदेव………

Pustak Ka Vivaran : Jin anantarup bhagwan vishnu (Varah) ne prachin kaal mein samudron se ghiri, van-parvat evan nadiyon sahit prthvi ko atyant vishal sharir ke dwara apni dadh ke agrabhag par mitti ke (chhote-se) dhele ki bhanti utha liya tha, ve kans, mur, narak tatha ravanadi asuron ka ant karne vale Krshn evan Vishnurup se sabme vyapt devdeveshvar aadidev…………

Description about eBook : The infinite Lord Vishnu (Varah), who had surrounded the oceans in the ancient times, including the forests and rivers, lifted the Earth with a very large body on the face of his molar like a clay (small) lump, Goddeshwar Adi Dev, who occupies the crest of Krishna and Vishnupur, who endured Murray, hell and Ravana………………

“इंसान जितनी सहजता से सलाह देता है उतनी सहजता से और कुछ नहीं देता।” ला रोचेफ़ोकोल्ड
“One gives nothing so freely as advice.” La Rochefaucauld

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment