पद्म पुराण : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – पुराण | Padam Puran : Hindi PDF Book – Puran

Book Nameपद्म पुराण / Padam Puran
Category, , , , , ,
Language
Pages 1001
Quality Good
Size 4.26 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : श्रीव्यासजी के शिष्य परम बुद्धिमान लोमहर्षण जी ने एकान्त , बैठे हुए (अपने पुत्र) उग्रश्नवा नामक सूत से कहा- “बेटा ! तुम ऋषियों के आश्रमों पर आओ और उनके पूछने पर सम्पूर्ण धर्मो का वर्णन करो | तुमने मुझसे जो संक्षेप में सुना है, वह उन्हें विस्तारपूर्वक सुनाओ | मैंने महर्षि वेदव्यासजी के मुख से समस्त पुराणों का ज्ञान प्राप्त किया है……..

Pustak Ka Vivaran : Shrivyasji ke shishy param buddhimaan lomaharshan ji ne ekant , baithe hue (apne putr) Ugrashrava namak soot se kaha- “beta ! tum rshiyon ke aashramon par aao aur unke puchhne par sampurn dharmo ka varnan karo. Tumne mujhse jo sankshep mein suna hai, vah unhen vistarapurvak sunao. Mainne maharshi vedvyasji ke mukh se samast puranon ka gyan prapt kiya hai…………

Description about eBook : Shreevasji’s disciple Param intelligent lamrishna ji, sitting alone, said (his son) to a yoke called Ugrashava, “Son, come to the Ashrams of the Rishis and describe the entire religion on their asking. You have heard me in a nutshell, He should tell them in detail. I have learned the knowledge of all the mythology from the mouth of Maharishi Vedavishaji………………

“अपने को संभालने के लिए अपने मस्तिष्क का प्रयोग करें; दूसरों के साथ व्यवहार करने में अपने दिल का प्रयोग करें।” ‐ डोनाल्ड लेयर्ड
“To handle yourself, use your head; to handle others, use your heart.” ‐ Donald Laird

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment