मेंढक, मेंढक ही रहेगा : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – बच्चों की पुस्तक | Mendhak, Mendhak Hi Rahega : Hindi PDF Book – Children’s Book (Bachchon Ki Pustak)

Book Nameमेंढक, मेंढक ही रहेगा / Mendhak Mendhak Hi Rahega
Author
Category, , , ,
Language
Pages 15
Quality Good
Size 939 KB
Download Status Available

मेंढक, मेंढक ही रहेगा का संछिप्त विवरण : फिर अचानक बत्तख ज़मीन पर से ऊपर उठी और बड़ी खूबसूरती के साथ आसमान में उड़ी. उसने हवा में कुछ चक्कर लगाए. और फिर मेंढक के सामने घास पर जाकर उतरी. “गज़ब!” मेंढक, बत्तख की उड़ान देखकर चिल्लाया. “मैं भी उड़ना चाहता हूँ. “पर तुम उड़ नहीं सकते हो,” बत्तख ने कहा. “क्योंकि तुम्हारे पंख नहीं हैं.” फिर बत्तख ख़ुशी-खुशी अपने घर चली…….

Mendhak Mendhak Hi Rahega PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Phir Achanak Battakh zameen par se oopar uthi aur badi khoobasoorati ke sath Aasman mein udi. Usane hava mein kuchh chakkar lagaye. Aur phir Mendhak ke samane ghas par jakar utari. “Gazab!” Mendhak, battakh ki udan dekhakar chillaya. “Main bhi udana chahata hoon. “Par tum ud nahin sakate ho,” Battakh ne kaha. “Kyonki tumhare pankh nahin hain.” Phir battakh khushi-khushi apane ghar chali………
Short Description of Mendhak Mendhak Hi Rahega PDF Book : Then suddenly the duck rose above the ground and flew in the sky with great beauty. He did a few rounds in the air. And then landed on the grass in front of the frog. “Calamity!” The frog cried seeing the flight of the duck. “I want to fly too.” “But you can’t fly,” said the duck. “Because you don’t have wings.” Then the duck happily went home………
“अधिकांश व्यक्ति अप्राप्त वस्तुओं को प्राप्त करने में प्रयासरत रहते हैं और इस प्रकार उन्हीं चीजों के गुलाम बन के रह जाते हैं जिन्हें वे प्राप्त करना चाहते हैं।” अनवर अल सदात
“Most people seek after what they do not possess and are thus enslaved by the very things they want to acquire.” Anwar El-Sadat

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment