मोमिन और उनकी शायरी : धर्मपाल गुप्त ‘शलभ’ द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – काव्य | Momin Aur Unaki Shayari : by Dharmpal Hindi PDF Book – Poetry (kavya)

Book Nameमोमिन और उनकी शायरी / Momin Aur Unaki Shayari
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 112
Quality Good
Size 4 MB
Download Status Available

मोमिन और उनकी शायरी का संछिप्त विवरण : उर्दू काव्य-जगत के इस सुप्रसिद्ध कवि का जन्म आज से १६१ वर्ष पूर्व सं १७६७ ई. में दिल्‍ली के सम्भान्त हकीम परिवार मुआ | आपके पिता का नाम हकीम गुलामनबी खां था | आपके दादा हकीम नामदार खां और उनके भाई कामदार खां. मुग़ल साम्राज्य के अंतिम काल में शाही चिकित्सकों के रूप में..

Momin Aur Unaki Shayari PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Urdoo kavy-jagat ke is suprasiddh kavi ka janm aaj se 161 varsh poorv san 1767 ee. mein Dehli ke sambhrant hakeem parivar mein huya. Apake pita ka Nam hakeem Gulamanabee khan tha. Apake dada hakeem Namadar khan aur unake bhai hakeem kamadar khan. Mugal Samrajy ke antim kal mein shahee chikitsakon ke roop mein
Short Description of Momin Aur Unaki Shayari PDF Book : This famous poet of Urdu poetry was born in the Hakim family of Delhi in 1667 AD from today, in 1767 AD. Your father’s name was Hakim Ghulmanabi Khan. Your grandfather Hakim Namdar Khan and his brother Hakim Kamdar Khan. In the last period of the Mughal Empire, as the royal physicians…………..
“आपके द्वारा कुछ ऐसा प्राप्त करना जिसे आपने पहले कभी भी प्राप्त नहीं किया है, आपको अवश्य ही ऐसा व्यक्ति बनना होगा जो आप पहले कभी नहीं थे।” ‐ ब्रिअन ट्रेसी
“To achieve something you’ve never achieved before, you must become someone you’ve never been before.” ‐ Brian Tracy

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment