मुल्ला नसीरुद्दीन के किस्से : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – बच्चों की पुस्तक | Mulla Nasiruddin Ke Kisse : Hindi PDF Book – Children’s Book (Bachchon Ki Pustak)

Book Nameमुल्ला नसीरुद्दीन के किस्से / Mulla Nasiruddin Ke Kisse
Author
Category, , , , , , ,
Language
Pages 10
Quality Good
Size 2.2 MB
Download Status Available

मुल्ला नसीरुद्दीन के किस्से का संछिप्त विवरण : बादशाह ने कहा ठीक है मैं उसे भी अपना वजीर बना लेता हूँ।”” बादशाह ने मुल्ला नसरुद्दीन को बुलावा भेजा। नसरुद्दीन को वजीर बना दिया गया। बादशाह ने नसरुद्दीन से कहा: “मैं अपनी जनता को खुशहाल बनाना चाहता हूँ। तुम कोई तरकीब बताओ। मुल्ला नसरुद्दीन का जवाब था: “इसकी एक ही तरकीब……

Mulla Nasiruddin Ke Kisse PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Badshah ne kaha theek hai main use bhi apna Wazir bana leta hoon.”” Badshah ne Mulla Nasaruddeen ko bulava bheja. Nasaruddeen ko Wazir bana diya gaya. Badshah ne Nasruddin se kaha: “Main apni janata ko khushahal banana chahata hoon. Tum koi Tarkeeb batayo. Mulla Nasaruddeen ka javab tha: “Iski Ek hi tarkeeb……….
Short Description of Mulla Nasiruddin Ke Kisse PDF Book : The king said, okay, I will make him my wazir too.” The emperor sent a call to Mulla Nasruddin. Nasruddin was made the vizier. The emperor said to Nasruddin: “I want to make my people happy. Tell me some trick Mulla Nasruddin’s reply was: “Its only one trick………
“प्रतिभा का विकास शांत वातावरण में होता है, और चरित्र का विकास मानव जीवन के तेज प्रवाह में।” – जोहेन वोल्फगैंग वॉन गोएथ, कवि, नाटककार, उपन्यासकार और दार्शनिक (1749-1832)
“Talent develops in tranquillity, character in the full current of human life.” – Johann Wolfgang von Goethe, poet, dramatist, novelist, and philosopher (1749-1832)

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment