पगडण्डी चल मुकाम पर पहुँचा चित्रकार : दिलीप चिंचालकर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Pagdandi Chal Mukam Par Pahuncha Chitrakar : by Dilip Chinchalkar Hindi PDF Book – Story (Kahani)

पगडण्डी चल मुकाम पर पहुँचा चित्रकार : दिलीप चिंचालकर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Pagdandi Chal Mukam Par Pahuncha Chitrakar : by Dilip Chinchalkar Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name पगडण्डी चल मुकाम पर पहुँचा चित्रकार / Pagdandi Chal Mukam Par Pahuncha Chitrakar
Author
Category, , ,
Language
Pages 4
Quality Good
Size 417 KB
Download Status Available

पगडण्डी चल मुकाम पर पहुँचा चित्रकार का संछिप्त विवरण : अखिल भारत्तीय पुरस्कारों और अपने उम्दा चित्रों के कारण देवास में रहते हुए ही विष्णु चिंचालकर का नाम देश भर के कला पारखियों में प्रसिध्द हो गया था | एक बार कलकत्ता की फाइन आर्टस्‌ सोसाइटी ने अपने वार्षिक प्रदर्शनी मैं विष्णु को न्यौता भेजा। रवीन्द्रनाथ टैगोर की मित्र लेडी हा मुखर्जी तब सोसायटी की अध्यक्षा थीं। कम उम्र विष्णु को देखकर ये चकित रह गई और चित्रों से ज्यादा नुमाइश उन्होंने…….

Pagdandi Chal Mukam Par Pahuncha Chitrakar PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Akhil Bharatiya Puraskaron aur apne umda chitron ke karan devas mein rahate huye hi vishnu chinchalkar ka nam desh bhar ke kala parakhiyon mein prasidhd ho gaya tha. Ek bar kalakatta ki phain aartas‌ society ne apane varshik pradarshani main vishnu ko nyauta bheja. Raveendranath taigor ki mitra lady ha mukharjee tab society ki adhyaksha theen. Kam umr vishnu ko dekhakar ye chakit rah gayi aur chitron se jyada numaish unhonne…….
Short Description of Pagdandi Chal Mukam Par Pahuncha Chitrakar PDF Book : Vishnu Chinchalkar’s name became famous among art connoisseurs across the country due to All India awards and his fine paintings while living in Dewas. Once the Fine Arts Society of Calcutta invited Vishnu to its annual exhibition. Lady Ha Mukherjee, a friend of Rabindranath Tagore, was then the president of the society. She was astonished to see Vishnu at a young age and she exhibited more than pictures……
“जब मैं चौदह साल का लड़का था, तब मेरे पिता इतने अज्ञानी थे कि मुझे उनका आसपास होना बिल्कुल नहीं पसंद था। लेकिन जब मैं इक्कीस का हुआ, तो मुझे बेहद आश्चर्य हुआ कि सात वर्षों में उन्होंने कितना कुछ सीख डाला था।” ‐ मार्क ट्वैन
“When I was a boy of fourteen, my father was so ignorant I could hardly stand to have the old man around. But when I got to be twenty-one, I was astonished at how much the old man had learned in seven years.” ‐ Mark Twain

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment