मेरी अपनी दुनिया : विष्णु चिंचालकर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Meri Apni Duniya : by Vishnu Chinchalkar Hindi PDF Book – Social (Samajik)

मेरी अपनी दुनिया : विष्णु चिंचालकर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Meri Apni Duniya : by Vishnu Chinchalkar Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name मेरी अपनी दुनिया / Meri Apni Duniya
Author
Category,
Language
Pages 5
Quality Good
Size 311 KB
Download Status Available

मेरी अपनी दुनिया का संछिप्त विवरण : अजी, कभी आप मेरे घर नहीं पधारे। आपने तो केवल सुन ही रखा है कि मेरा घर ‘एक अजीब सा कबाड़ खाना है। कई तरह का अटाला और कई प्रकार की ऊट-पटांग चीजें जहां-तहां बिखरी हुई आपको दिखाई देंगी” वगैरा-वगैरा। वास्तव में इसमें झूठ कुछ भी नहीं है। परंतु मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि इसी कबाड़-खाने में आपको कुछ दिलचस्प बातें भी दिखाई देंगी……..

 Meri Apni Duniya PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Aji, Kabhi aap mere ghar nahin padhare. Aapane to keval sun hi rakha hai ki mera ghar ek ajeeb sa kabad khana hai. Kai tarah ka atala aur kai prakar ki oot-patang cheejen jahan-tahan bikhari huyi aapako dikhai dengi” vagaira-vagaira. Vastav mein isamen jhooth kuchh bhi nahin hai. Parantu main aapako vishvas dilata hoon ki isi kabad-khane mein aapako kuchh dilachasp baten bhi dikhai dengi………
Short Description of  Meri Apni Duniya PDF Book : Aji, you never come to my house. You have only heard that my house is a strange junk food. Many types of atala and many types of oat-patang items will be seen scattered here and there. In fact there is nothing lying in it. But I assure you that you will see some interesting things in this junk food ……
“मैं सफलता की कीमत जानता हूं: समर्पण, कड़ी मेहनत, और जो आप होते देखना चाहते है उनमें अनवरत श्रद्धा।” फ्रैंक लॉयड राइट
“I know the price of success: dedication, hard work, and an unremitting devotion to the things you want to see happen.” Frank Lloyd Wright

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment