पाली एवं प्राकृत विद्या : डा० विजयकुमार जैन द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – ग्रन्थ | Pali Evam Prakrit Vidya : by Dr. Vijay Kumar Jain Hindi PDF Book – Granth

पाली एवं प्राकृत विद्या : डा० विजयकुमार जैन द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - ग्रन्थ | Pali Evam Prakrit Vidya : by Dr. Vijay Kumar Jain Hindi PDF Book - Granth
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name पाली एवं प्राकृत विद्या / Pali Evam Prakrit Vidya
Author
Category,
Pages 197
Quality Good
Size 30 MB
Download Status Available

पाली एवं प्राकृत विद्या का संछिप्त विवरण : प्राचीन भाषा पालि एवं प्राकृत में बौद्ध एवं जैन विद्या सुरक्षित है | दोनों में साम्य दिखाई देने पर भी इनका अपना-अपना वैशिष्टय है | लेखक ने इन दोनों परम्परा के प्रमुख पारिभाषिक शब्दों की गहन तुलना करने का प्रयास किया है | इस लघु ग्रन्थ में प्रारंभिक चरण में पालि एवं प्राकृत भाषा एवं काव्य की तुलना की गई है….

Pali Evam Prakrit Vidya PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Prachin bhasha pali evan prakrt mein bauddh evan jain vidya surakshit hai. Donon mein samy dikhai dene par bhi inka apna-apna vaishishtay hai. Lekhak ne in donon parampara ke pramukh paribhashik shabdon ki gahan tulna karne ka prayas kiya hai. Is laghu granth mein prarambhik charan mein pali evan prakrt bhasha evan kavy ki tulna ki gai hai…………
Short Description of Pali Evam Prakrit Vidya PDF Book : Buddhism and Jainism are safe in ancient language lip and nature. Both have their own characteristics even when they appear in equality. The author has tried to make a profound comparison of the major technical terms of these two traditions. This short text compares the lip and natural language and poetry in the early stages……………
“अपने भाग्य का नियंत्रण स्वयं कीजिए, नहीं तो कोई और करेगा।” जैक वेल्च
“Control your own destiny or someone else will.” Jack Welch

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment