पार उतरि कहँ जइहौ : प्रभाकर द्विवेदी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Par Utari Kahan Jaihau : by Prabhakar Dwivedi Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Nameपार उतरि कहँ जइहौ / Par Utari Kahan Jaihau
Author
Category, , , ,
Language
Pages 246
Quality Good
Size 6 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : उसी ऊब में ही में घुट रहा था , इसी से यहाँ भाग आया। ऐसी तो कोई बात नहीं है कि इस स्थान विशेष पर ऊब न लगती हो। पर घूम लेने से ऊब काम अवश्य हो जाती है। और अधिक घूमने से मन को शांति मिल जाती है। क्यों मिल जाती है यह शान्ति, यह बता पाना कठिन है। उसी तरह से, जैसे यह बता पाना कठिन है कि ऊब कर मन घूमना ही क्यों चाहता है……

Pustak Ka Vivaran : Usi oob mein hi main ghut raha tha, isi se yahan bhag aaya. Aise to koi bat nahin hai. Ki is sthan vishesh par oob na lagti ho . Par ghoom lene se oob kam avashy ho jati hai. Aur adhik ghumane se man ko shanti mil jati hai. Kyon mil jati hai yah shanti, yah bata pana kathin hai. Usi tarah se, jaise yah bata pana kathin hai. Ki oob kar man ghoomana hi kyon chahata hai……..

Description about eBook : I was choking in the same boredom, here I ran away. There is no such thing. That you do not get bored at this particular place. But it definitely reduces the boredom by moving around. Moving more gives peace to the mind. Why is this peace found, it is difficult to tell. In the same way, it is difficult to tell. Why does the mind want to roam in boredom ……..

“भाग्य अवसर और तैयारी के मिलन की बात है।” ‐ ओपरा विनफ्री, अमरीकी अभिनेत्री
“Luck is a matter of preparation meeting opportunity.” ‐ Oprah Winfrey, American Actress

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment