हिंदी संस्कृत मराठी मन्त्र विशेष

परिवार में परमाणु / Parivar Mein Parmanu

परिवार में परमाणु : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Parivar Mein Parmanu : Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name परिवार में परमाणु / Parivar Mein Parmanu
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 333
Quality Good
Size 24 MB
Download Status Available

परिवार में परमाणु का संछिप्त विवरण : लुढ़क कर घास पर गिर पड़ा | गेंद उसके शरीर से टकरा कर “गोल” की ओर बढ़ी । बचाव मुझे करना था ! किन्तु, मैं तो अपने नेता की स्थिति को सहानुभूति की अपेक्षा कुतूहल की दृष्टि से देख रही थी, कि गेंद मेरे सीने पर आ लगी | मैं तो ‘ धक ‘ हो गयी – लड़खड़ायी, गिरते-गिरते मैने अपने को सम्हाला ! तब तक तो गेंद मुकमसे टकराकर मैदान में लौट चुकी थी और विजय हमारी रही …….

Parivar Mein Parmanu PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Ludhak kar Ghas par gir pada. Gend Usake Shareer se takara kar “gol” kee or badhi . Bachav Mujhe karana tha ! Kintu, main to Apane neta kee sthiti ko sahanubhooti kee Apeksha kutoohal kee drshti se dekh rahi thee, ki gend mere seene par aa lagi. Main to dhak ho gayi – Ladakhadayi, Girate-Girate maine apane ko samhala ! Tab tak to gend Mukamase takarakar Maidan mein laut chuki thee aur vijay hamari rahi ………
Short Description of Parivar Mein Parmanu PDF Book : Rolled and fell on the grass. The ball hit his body and moved towards the “goal”. I had to rescue! But I was looking at the position of my leader rather than sympathetically, that the ball hit my chest. I was ‘shocked’ – I stumbled and fell, I supported myself! By then the ball had returned to the ground with a full swing and Vijay was ours ……
“आपको मानवता में विश्वास नहीं खोना चाहिए। मानवता एक सागर की तरह है, यदि सागर की कुछ बूंदे खराब हैं तो पूरा सागर गंदा नहीं हो जाता है।” – मोहनदास गांधी
“You must not lose faith in humanity. Humanity is an ocean; if a few drops of the ocean are dirty, the ocean itself does not become dirty.” – Mohandas Gandhi

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Leave a Comment