पतंजलि योग सूत्र : बी. के. एस. आयंगार द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Patanjali Yoga Sutra : by B. K. S. Ayangar Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameपतंजलि योग सूत्र / Patanjali Yoga Sutra
Author
Category, , ,
Pages 84
Quality Good
Size 900 KB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : चूँकि सूर्य देवता को पृथ्वी पर साक्षात्‌ भगवान्‌ माना जाता है, इस कारण गोणिका ने अपनी अंजलि में सूर्य देवता को अंतिम अर्पण देने के लिए थोड़ा जल भर लिया, जिसमें उनके दूवारा अर्जित और अनुभव किया गया संपूर्ण ज्ञान समाहित था। अपनी आँखें बंद कर उनका ध्यान करते हुए वह जल अर्पण करने वाली थीं। उनका मन पूरी तरह सूर्य देवता में डूब चुका था। प्रार्थना समाप्त होने पर उन्होंने आँखें खोलीं और जल के रूप में अपना ज्ञान…

Pustak Ka Vivaran : Chunki Sury Devata ko Prthvi par sakshat‌ Bhagvan‌ mana jata hai, is karan Gonika ne apni Anjali mein sury devata ko antim arpan dene ke liye thoda jal bhar liya, jisamen unke doovara Arjit aur anubhav kiya gaya sampurn gyan samahit tha. Apni Aankhen band kar unka dhyan karate huye vah jal arpan karane vali theen. Unka Man poori tarah sury devata mein doob chuka tha. Prarthana samapt hone par unhonne Aankhen kholin aur jal ke roop mein apna gyan………

Description about eBook : Since the Sun God is considered to be the real Lord on earth, Gonika filled her Anjali with some water as a final offering to the Sun God, which contained all the knowledge acquired and experienced by her. She was about to offer water while meditating on him with her eyes closed. His mind was completely immersed in the sun god. At the end of the prayer he opened his eyes and revealed his knowledge in the form of water…………

“स्वास्थ्य की हानि होने पर न तो प्रेम, न ही सम्मान, न ही धन-दौलत और न ही बल द्वारा हृदय को खुशी मिल सकती है।” – जॉन गे
“Nor love, not honour, wealth nor power, can give the heart a cheerful hour when health is lost. ” – John Gay

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment