प्राचीन भारतीय साहित्य एवं कला में कार्तिकेय : कपिल देव मिश्र द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – इतिहास | Prachin Bharatiya Sahitya Evm Kala Me Kartikey : by Kapil Dev Mishr Hindi PDF Book – History ( Itihas )

प्राचीन भारतीय साहित्य एवं कला में कार्तिकेय : कपिल देव मिश्र द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - इतिहास | Prachin Bharatiya Sahitya Evm Kala Me Kartikey : by Kapil Dev Mishr Hindi PDF Book - History ( Itihas )
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name प्राचीन भारतीय साहित्य एवं कला में कार्तिकेय / Prachin Bharatiya Sahitya Evm Kala Me Kartikey
Author
Category, , ,
Language
Pages 268
Quality Good
Size 20 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : ‘जन विश्रति बहुधा विवाचस नाना धर्मान प्रथिवी यथौकसम’ अर्थात मनुष्य अनेक प्रकार की भाषायें बोलता है, अनेकानेक धर्मो को मानता है | अथर्ववेद की इस आर्ष वाणी से यह स्पष्ट है कि जन की विविधता भारतीय जीवन का अभिभावी सत्य है | भारतीय लोक संस्कृत में सबसे विचित्र एवं विविध अंग उसकी धार्मिक परम्परा की रही है……

Pustak Ka Vivaran : Jan vibhrati bahudha vivachas nana dharman Prathivi yathaukasam arthat manushy anek prakar ki bhashayen bolta hai, anekanek dharmo ko manta hai. Atharvaved ki is aarsh vani se yah spasht hai ki jan ki vividhta bharatiy jeevan ka abhibhavi saty hai. Bharatiy lok sanskrt mein sabse vichitr evan vividh ang uski dharmik parampara ki rahi hai…………

Description about eBook : ‘Jan Dvvriati Bahadhi Vishwachas Nana Dharman Prathivi Yathaukasam’ means that man speaks many kinds of languages, he believes in many religions. From this voice of Atharva Veda it is clear that the diversity of the mass is the affectionate truth of Indian life. Indian folk has been one of the most bizarre and diverse herbs in Sanskrit……………

“जिनसे प्रेम करते हैं, उन्हें जाने दें, वे यदि लौट आते हैं तो वे सदा के लिए आपके हैं। और अगर नहीं लौटते हैं तो वे कभी आपके थे ही नहीं।” ‐ खलील ज़िब्रान (१८८३-१९३१), सीरियाई कवि
“If you love somebody, let them go, for if they return, they were always yours. And if they don’t, they never were.” ‐ Kahlil Gibran (1883-1931), Syrian Poet

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment