प्राचीन छत्तीसगढ़ : प्यारेलाल गुप्त द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Prachin Chhattisgarh : by Pyarelal Gupt Hindi PDF Book – Social (Samajik)

प्राचीन छत्तीसगढ़ : प्यारेलाल गुप्त द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Prachin Chhattisgarh : by Pyarelal Gupt Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name प्राचीन छत्तीसगढ़ / Prachin Chhattisgarh
Author
Category, ,
Language
Pages 475
Quality Good
Size 11.5 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : गुप्त जी का यह ग्रन्थ अपने ढंग का अनूठा है। छत्तीसगढ़ पर अनेक ग्रन्थ और लेख लिखे गए हैं। वहाँ के रहने वालों में अपने प्रदेश के लिये बड़ा अनुराग है और उसका आभास साहित्यकों और इतिहासकारों के ग्रन्थों में मिलता है। प्रारम्भ काल से ही छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश का बड़ा महत्व रहा है। प्रायः ऐतिहासिक काल की बहुत कछ सामग्री प्राप्त हो चुकी है जिसके आधार पर……

Pustak Ka Vivaran : Gupt ji ka yah granth apane dhang ka anootha hai. Chhattisagadh par anek granth aur lekh likhe gaye hain. vahan ke rahane valon mein apane pradesh ke liye bada anurag hai aur usaka aabhas sahityakon aur Itihaskaron ke Granthon mein milata hai. Prarambh kal se hi Chhatteesagarh aur madhy pradesh ka bada mahatv raha hai. Prayah aetihasik kal ki bahut kachh saamagri prapt ho chuki hai jisake aadhar par……

Description about eBook : This book of Gupta ji is unique in its form. Many texts and articles have been written on Chhattisgarh. There is a great affection among the people living there for their state and its idea is found in the books of writers and historians. Chhattisgarh and Madhya Pradesh have been of great importance since the early times. Often a lot of historical material has been received on the basis of which ……

“आप विवाह के समारोह का तो अभ्यास कर सकते है, लेकिन विवाह का नहीं।” ‐ अल बेट्ट
“You can rehearse a wedding but not a marriage.” ‐ Al Batt

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment