प्रज्ञान तथा क्रम पथ : पण्डित गोपीनाथ कविराज द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Pragyan Tatha Kram Path : by Pandit Gopinath Kaviraj Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

प्रज्ञान तथा क्रम पथ : पण्डित गोपीनाथ कविराज द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - आध्यात्मिक | Pragyan Tatha Kram Path : by Pandit Gopinath Kaviraj Hindi PDF Book - Spiritual (Adhyatmik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name प्रज्ञान तथा क्रम पथ / Pragyan Tatha Kram Path
Author
Category
Language
Pages 132
Quality Good
Size 23 MB
Download Status Available

प्रज्ञान तथा क्रम पथ का संछिप्त विवरण : उभय चक्षुओं की दृष्टि एक बिंदु पर मिल जाती है | अर्थात जब उभय चक्षु की दृष्टि समान रूप से मिल जाती है, तभी सामरस्य का आविर्भाव होता है | इस मिलन में शून्य आविर्भूत हो उठता है | इस शुन्य को आभाव का शुन्य नहीं कहा जा सकता | इस शुन्य में सब कुछ विद्यमान है | इसका आश्रय लेकर स्वरूपसत्ता पर्यन्त उधर्वारोहण किया जा सकता है…..

Pragyan Tatha Kram Path PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Ubhay chakshuon ki drshti ek bindu par mil jati hai. Arthat jab ubhay chakshu ki drshti saman roop se mil jati hai, tabhi samarasy ka aavirbhav hota hai. Is milan mein shuny aavirbhut ho uthta hai. Is shuny ko aabhav ka shuny nahin kaha ja sakta. Is shuny mein sab kuchh vidyaman hai. Iska aashray lekar svarupasatta paryant udharvarohan kiya ja sakta hai…………
Short Description of Pragyan Tatha Kram Path PDF Book : The sight of the two eyes is found at one point. That is, when the sight of the other eye is found evenly, then there is the emergence of samarasi. In this meeting, zero gets absorbed. This vacuum can not be called zero. Everything exists in this zero. It can be resorted to asphyxiate by taking shelter…………
“”सभी से प्रेम करें, कुछ पर विश्वास करें और किसी के साथ भी गलत न करें।”” ‐ विलियम शेक्सपियर
“”Love all, trust a few, do wrong to none.”” ‐ William Shakespeare

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment