प्रेम है द्वार प्रभु का : ओशो द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Prem Hai Dwar Prabhu Ka : by Osho Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

Book Nameप्रेम है द्वार प्रभु का / Prem Hai Dwar Prabhu Ka
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 157
Quality Good
Size 1 MB

पुस्तक का विवरण : मनुष्य जाति भय से, चिंता से, दुख और पीड़ा से आक्रांत है, और पांच हजार बर्षों से- आज ही नहीं। जब आज ऐसी बात कह जाती है। कि मनुष्यता भय से, चिंता से, तनाव से, अशांति से भर गई है तो ऐसा भ्रम पैदा होता है जैसे पहले लोग शांत थे, आनंदित थे…….

प्रेम है द्वार प्रभु का : ओशो द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Prem Hai Dwar Prabhu Ka : by Osho Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

Pustak Ka Vivaran : Manushy jati bhay se, chinta se, dukh aur pida se akrant hai, aur panch hajar varshon se-aj hi nahin. Jav aj aisi bat kah jati hai. Ki manushyata bhay se, chinta se, tanav se, ashanti se bhar gai hai to aisa bhram paida hota hai jaise pahale log shant the, anandit the………….

Description about eBook : Human race is inclined from fear, anxiety, pain and suffering, and for five thousand years-not today. Barley today says such a thing. If humanity is filled with fear, anxiety, stress, unrest, then such an illusion arises, just as people were calm and happy…………..

“जो व्यक्ति किसी तारे से बंधा होता है वह पीछे नहीं मुड़ता।” ‐ लेओनार्दो दा विंची (१४५२-१५१९), इतालवी कलाकार, संगीतकार एवं वैज्ञानिक
“He who is fixed to a star does not change his mind.” ‐ Leonardo da Vinci (1452-1519), Italian Artist, Composer and Scientist

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment