समाधी के सप्त द्वार : ओशो द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Samadhi Ke Sapt Dwar : by Osho Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

Book Nameसमाधी के सप्त द्वार / Samadhi Ke Sapt Dwar
Author
Category, , ,
Language
Pages 290
Quality Good
Size 2 MB

पुस्तक का विवरण : ऐसा बहुत पुराने समय में भारत ने भी माना था। हमने भी माना था कि वेद संहिताओं का नाम नहीं है, शास्त्रों का नाम नहीं है; वरन्‌ वेद उस ज्ञान का नाम है, जो अंतरिक्ष में, आकाश में संरक्षित हो जाता है, जो इस अस्तित्व के गहरे अंतस्तल में ही छप जाता है। और होना भी ऐसा ही चाहिए। बुद्ध अगर बोलें……..

समाधी के सप्त द्वार : ओशो द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Samadhi Ke Sapt Dwar : by Osho Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

Pustak Ka Vivaran : Aisa Bahut Purane samay mein Bharat ne bhi mana tha. Hamane bhi mana tha ki ved Sanhitaon ka Nam nahin hai, Shastron ka Nam nahin hai; varan‌ ved us gyan ka nam hai, jo Antariksh mein, aakash mein sanrakshit ho jata hai, jo is astitv ke gahare antastal mein hi chhap jata hai. Aur hona bhi aisa hi chahiye. buddh agar bolen……..

Description about eBook : India had also accepted this in very old times. We also believed that the Vedas do not have a name for the Samhitas, the scriptures do not have a name; Rather, Veda is the name of that knowledge, which is preserved in space, in the sky, which is printed in the deepest layer of this existence itself. And it should be so. If Buddha speaks………

“हर बार जब हम कोई नया काम शुरू करते हैं, तब हम अपने आप से वही सवाल करते हैं – हम अलग और बेहतर क्या कर सकते हैं?” ‐ रिकार्डो गौडालुपे
“Every time we start a new project, we always ask ourselves the same question – What can we do better and different?” ‐ Ricardo Guadalupe

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment