पुराणों में पर्यावरण : मनोज सिंह द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – पर्यावरण | Purano Mein Paryavaran : by Manoj Singh Hindi PDF Book – Environment (Paryavaran)

पुराणों में पर्यावरण : मनोज सिंह द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - पर्यावरण | Purano Mein Paryavaran : by Manoj Singh Hindi PDF Book - Environment (Paryavaran)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name पुराणों में पर्यावरण / Purano Mein Paryavaran
Author
Category, , ,
Language
Pages 253
Quality Good
Size 16 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : भारतीय ऋषियों ने तीर्थ के लिए उन्हीं स्थलों को चुना जहाँ प्रकृति में कुछ विशिष्टता, रमणीयता या सुन्दरता थी, जिससे कि उसका मन संकीर्ण विचारधाराओं के ऊपर उठ सके और अनन्त मे अपनी स्थिति का परिज्ञान कर सकें | भारतीय मनीषियों ने तीर्थ स्थल के लिए ऐसे स्थलों का चुनाव किया जो प्रकृति के खुले वातावरण में………..

Pustak Ka Vivaran : Bharatiy Rishiyon ne teerth ke liye unheen sthalon ko chuna jahan prakrti mein kuchh vishishtata, ramaneeyata ya sundarata thee, jisase ki usaka man sankeern vicharadharaon ke uoopar uth sake aur anant mein apani sthiti ka parigyan kar saken. Bharatiy manishiyon ne teerth sthal ke liye aise sthalon ka chunav kiya jo prakrti ke khule vatavaran mein ho………….

Description about eBook : Indian Sisters chose the same places for pilgrimage where there was some speciality, elegance or beauty in nature, so that their mind could rise above narrow ideologies and understand their position in the eternal. Indian mystics chose such sites for pilgrimage sites in the open environment of nature…………..

“अपनी खुशियों के प्रत्येक क्षण का आनन्द लें; ये वृद्धावस्था के लिए अच्छा सहारा साबित होते हैं।” क्रिस्टोफर मोर्ले
“Cherish all your happy moments: they make a fine cushion for old age.” Christopher Morley

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment