पुष्प – पराग : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Pushp – Parag : Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

Book Nameपुष्प - पराग / Pushp - Parag
Category, , , , , , ,
Pages 353
Quality Good
Size 18 MB
Download Status Available

पुष्प – पराग पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण : बालकृष्ण चन्द्रमा को लेने के लिए हठ करते हुए कहते कि हे माँ ! मैं तो चाँद का
खिलौना लूंगा। (और यदि तू वह न ला देगी तो) मैं धौरी गाय का दूध न पीऊंगा और सर पर चोटी भी न
पीऊंगा पर चोटी भी न गुँथाऊंगा। गले में गले में मोतियों की माला पहनूंगा और न शरीर पर भग्गा या कुरता
ही पहनूंगा..

Pushp – Parag PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Balakrshn chandrama ko lene ke liye hath karate huye kahate ki he man ! Main to chand ka khilauna loonga. (Aur yadi too vah na la degi to) main dhauree gay ka doodh na peeunga aur sar par choti bhee na peeunga par chotee bhee na gunthaunga. gale mein gale mein motiyon kee mala pahanoonga aur na shareer par bhagga ya kurata hee pahanoonga…………

Short Description of Pushp – Parag Hindi PDF Book : Balkrishna used to persist in taking the moon and said, ‘O mother!’ I’ll take the moon’s toy. (And if you do not bring it) then I will not drink milk cow’s milk and I will not drink a peg on the head, but I will not even grasp the peak. I will wear pearls of neck in my throat and neither will I wear bhagga or kurta on my body……………….

 

“सफलता खुशी की कुंजी नहीं है। खुशी सफलता की कुंजी है। यदि आप अपने काम को दिल से करते हैं, तो आप ज़रूर सफल होंगे।” हेरमन कैन
“Success is not the key to happiness. Happiness is the key to success. If you love what you are doing, you will be successful.” Herman Cain

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment